Pravasi Bhartiya Sammelan: हर्षल सिंह राठौड़, इंदौर। जनवरी में होने वाले प्रवासी भारतीय सम्मेलन और इंवेस्टर्स समिट के लिए पूरे शहर को सजाया जा रहा है। शहर का सबसे पुराना खानपान का बाजार भी अब नई रंगत में नजर आएगा। छप्पन दुकान के बाद अब सराफे की तंग गली में रात को लगने वाली चौपाटी को भी और भी खास बनाया जाएगा। प्रशासन जहां इसे सजाने और व्यवस्थित बनाने के लिए प्रयास कर ही रहा है वहीं व्यापारी भी आगे आए हैं। काम पूरा होने के बाद यहां रंगों से पटी सड़क, व्यवस्थित लगे ठेले और रंगबिरंगी आकाशीय छटा भी नजर आएगी। साथ ही यहां हाइजीन और गुणवत्ता पर और भी जोर होगा।

शहर के सराफा बाजार में दशकों से रात में लगती आ रही खानपान की दुकानों की ओर भी अब निगम प्रशासन का ध्यान गया है। शहर की सबसे पुरानी इस चौपाटी को अब और भी बेहतर बनाने के लिए प्रयास किया जा रहा है। हालांकि यह साज-सज्जा अस्थायी होगी। इससे सजाने का काम करीब 25 दिसंबर से शुरू होगा। इसके तहत सड़क पर रंग रोगन कर उसे आकर्षक बनाया जाएगा और यहां लगने वाली दुकानों, ठेलों को और भी व्यवस्थित किया जाएगा। इसके अलावा यहां हर दुकान-ठेले के बाहर उसका संख्या क्रमांक का बोर्ड भी लगाया जाएगा।

यहां की सजावट में 10-12 लाख रुपये का खर्च होगा। यह सजावट छोटा सराफा और शकर बाजार में नहीं होगी। चूंकि क्षेत्र में सुबह सोने-चांदी की दुकानें लगती हैं और रात को चौपाटी लगती है इसलिए छप्पन दुकान की तरह स्थायी सजावट मुश्किल है। फिलहाल यह सजावट अस्थायी होगी। इसके अलावा क्षेत्र में पार्किंग व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा।

अर्श से फर्श तक की होगी सजावट

स्मार्ट सिटी के अधिक्षक यंत्री डीआर लोधी के अनुसार सराफा चौपाटी को सजाने का कार्य करीब 25 दिसंबर से शुरू होगा जो 4-5 दिन में पूरा हो जाएगा। सड़क को रंग से और उुपर रंगबिरंगी पतंग आदि से सजाया जाएगा। यह सजावट इमामबाड़े से सराफा थाने तक की जाएगी। इसके अलावा हर दुकान-ठेले को क्रमांक दिया जाएगा और उसके बोर्ड भी लगेंगे। वर्तमान में यहां कई दुकानें बेतरतीब लगती हैं जिससे आगंतुकों को परेशानी होती है। दुकानों-ठेलों के बाहरी काउंटर को भी एक समान रूप दिया जाएगा। सम्मेलन के दौरान उन्हें व्यवस्थित किया जाएगा ताकि आवागमन सुलभ हो और हर व्यक्ति व्यंजनों का लुत्फ सहजता से ले सके।

स्वाद के साथ स्वच्छता पर होगा ध्यान

रात्रिकालीन सराफा चौपाटी के अध्यक्ष राम गुप्ता बताते हैं कि अतिथियों के स्वागत में व्यापारी भी अपने स्तर पर प्रयास करेंगे। सबसे ज्यादा ध्यान यहां के पारंपरिक व्यंजनों के स्वाद, शुद्धता और स्वच्छता पर दिया जाएगा। यहां खानपान की कई ऐसी दुकानें हैं जो पीढ़ियों से यह कार्य करती आ रही हैं ऐसे में उनकी साख बरकरार रहे इसलिए और भी सजगता बरती जाएगी साथ ही अन्य दुकानदारों और ठेलों वालों को भी इसके बारे में कहा जाएगा। एसोसिएशन द्वारा हर दुकानदार और ठेले वालों को कैप, हैंड ग्लव्स और एप्रिन पहनकर कार्य करने की बात कही जाएगी। प्रयास किया जा रहा है कि सभी को समान कैप और एप्रेन मुहैया कराए जाएं।

एक नजर आंकड़ों पर

* 25 दिसंबर से शुरू होगा सराफा चौपाटी को सजाने का काम

* 4-5 दिन में हो जाएगा काम पूरा

* 10 से 12 लाख रुपये में होगा सजावट का काम

* करीब 180 दुकानें और ठेले यहां लगते हैं

* 80 दुकानें और ठेले हैं एसोसिएशन से पंजीकृत

* रात 9 बजे से 2 बजे तक खुली रहती है चौपाटी

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close