*लीज निरस्ती का मामले में उच्च न्यायालय ने कलेक्टर से पूछा सवाल

इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

उच्च न्यायालय ने कलेक्टर से पूछा है कि किस कानून के तहत इंदौर आई हॉस्पिटल के द्वार पर ताले लगाए गए हैं। लीज निरस्ती के आदेश को चुनौती देते हुए अस्पताल प्रबंधन ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है। मंगलवार को जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव की बेंच में इस पर सुनवाई हुई।

उल्लेखनीय है कि इंदौर आई हॉस्पिटल में मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने के बाद 15 लोगों की आंख की रोशनी जा चुकी है। इसके बाद कलेक्टर ने 4 अक्टूबर को अस्पताल की लीज निरस्त कर दी थी। इस आदेश को चुनौती देते हुए अस्पताल प्रबंधन ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर दी। इसमें कहा कि लीज निरस्त करने से पहले अस्पताल प्रबंधन को सुनवाई का अवसर नहीं दिया गया। न कोई सूचना दी गई, न ही नोटिस जारी हुआ। कलेक्टर ने अचानक लीज निरस्त करते हुए अस्पताल में ताले लगवा दिए। कोर्ट ने शासन को नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा है। मामले में अब 1 नवंबर को सुनवाई होगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना