इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में शुक्रवार को उल्लास और अध्यात्म का रंग नजर आया। गुरु के शहर आगमन पर शिष्यों ने उत्साह और भक्ति से स्वागत किया। हाथ में ध्वजा और सिर पर कलश लिए महिलाओं ने ललितप्रभ सागर महाराज और डा. मुनि शांतिप्रिय सागर महाराज की अगवानी की तो पुरुषों ने गुरु वंदना करते हुए जयघोष किया। साउथ तुकोगंज स्थित प्रिंसेस वैली से निकली शोभायात्रा रवींद्र नाट्यगृह पर संपन्न हुई जहां गुरु ने शिष्यों को संयम और धर्म पर चलने का मार्ग बताया। शहर में लंबे समय बाद ललितप्रभ महाराज और डा. मुनि शांतिप्रिय का आगमन व तीन दिवसीय प्रवचनमाला का शुभारंभ हुआ।

समाजजन को संबोधित करते हुए ललितप्रभ महाराज ने कर्तव्य परायणता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि एक मिनट में जिंदगी नहीं बदलती परंतु एक मिनट में सोचकर लिया गया फैसला पूरी जिंदगी बदल देता है। किस्मत के भरोसे बैठे रहने से नहीं, योग्यता हासिल करने से प्रगति होती है। भाग्य हाथ की रेखाओं में नहीं व्यक्ति के पुरुषार्थ में छिपा है। हार-जीत हमारी सोच पर निर्भर है और आगे बढ़ने के लिए आत्मविश्वास आवश्यक है। भाग्य की रेखाएं चमकाने के लिए लक्ष्य के साथ मेहनत भी आवश्यक है। जीवन में केवल लाभ ही मत देखिए बल्कि लोगों का हित भी देखें। रिश्ते और जिंदगी का महत्व समझाते हुए उन्होंने कहा कि गलती जिंदगी का एक पन्ना है और रिश्ते जिंदगी की किताब। जरूरत पड़ने पर गलती का पन्ना हटा दें पर पूरी किताब फाड़ने की भूल न करें। दुनिया में अच्छाई और बुराई दोनों हैं आपको बस नजरिया बदलना होगा।

जीवन सुकूनभरा बनाने के पांच मंत्र - प्रवचनमाला में डा. मुनि शांतिप्रिय सागर ने जीवन को सुकूनभरा बनाने के लिए पांच मंत्र दिए। उन्होंने कहा कि सकारात्मक विचार से व्यवहार को मधुर बनाया जा सकता है। जीवन में जो मिले उसका स्वागत करें शिकायत नहीं, इससे मन दुखी नहीं होगा। संतुष्ट भाव रखें। किसी को क्या मिल रहा है यह देखकर निराश होने के स्थान पर एक बात याद रखें कि ईश्वर ने हमें भाग्य से अधिक दिया है। मुस्कुराने के अवसर हमेशा तलाशें। जीवन में लोभ न करें। यदि यह बातें अपना ली जाएं तो हम मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे। प्रवचनमाला में समाजसेवी कांतिलाल बम, पारसमल कटारिया, सुजानमल चोपड़ा, राजेंद्र लोढ़ा, सुरेश दिनेश डोसी, रोहित कुमार मुणोत, पंकज संघवी, नवीन कुमार जैन, जयंती सिंघवी, दिलीप सावलानी आदि विशेष रूप से उपस्थित थे।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close