Janmashtami 2022 : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। घड़ी की सुइयों ने जैसे ही रात 12 बजे के आंकड़े को छुआ, वैसे ही जय यदुनंदन जय जगवंदन, जय वासुदेव देवकी नंदन के जयघोष स्मार्त मत के इंदौर के राजवाड़ा के प्राचीन गोपाल और बांके-बिहारी मंदिर में लगाए जाने लगे।

आकर्षक विद्युत और फूलों से सजे मंदिर में भगवान की जन्म आरती की गई। इस अवसर पर भगवान को पालने में झूलाया गया और प्रसाद में माखन-मिश्री और पंजीरी का वितरण किया गया। देर रात तक मंदिरों में भक्तों का मेला लगा रहा। इस अवसर पर मंदिर में पांव रखने की जगह नहीं थी। इससे पहले रात 10 बजे ही भक्तों के जुटने का सिलसिला शुरू हो गया था। अन्य वैष्णव मंदिरों में कृष्ण जन्माष्टमी शुक्रवार को मनाई जाएगी।

आज यहां मनाई जाएगी जन्माष्टमी -

  • मनोरमागंज स्थित गीता भवन में सुबह 10.30 बजे भजन कीर्तन और शाम 5.30 बजे ब्रह्मचारी हंस चैतन्य महाराज के कृष्ण जन्म पर प्रवचन होंगे।
  • बड़ा गणपति स्थित प्राचीन हंसदास मठ में नाग लोक और नौका विहार की की झांकी सजाई जाएगी।
  • श्रीश्री विद्याधाम में 51 विद्वानों द्वारा आचार्य राजेश शर्मा के निर्देशन में सुबह तुलसीदल, सफेद तिल्ली और पुष्पों से अर्चना होगी।
  • यशोदा माता मंदिर खजूरी बाजार में महापूजा के बाद 12 बजे जन्म आरती होगी।
  • गोवर्धननाथ मंदिर में सुबह ठाकुरजी का पंचामृत अभिषेक व श्रृंगार के बाद मध्यरात्रि को आरती होगी।
  • संस्था सृजन द्वारा गोराकुंड पर 51 हजार की इनामी राशि वाली मटकी फोड़ प्रतियोगिता शाम 7 बजे से होगी।
  • मालवीय नगर स्थित खाटू श्याम मंदिर में सुबह अभिषेक के बाद भगवान का विशेष शृंगार किया जाएगा।
  • मालवीय भारती मदिर आड़ा बाजार में पं. किशोर जोशी के आचार्यत्व में 11 ब्राह्मणों द्वारा महाभिषेक किया जाएगा।
  • 60 फीट रोड सोमानी नगर स्थित शिवधाम में रात 9 बजे भजन गायक पीयूष भावसार की भजन संध्या होगी।

रामानुजकोट में 21 को जन्माष्टमी

शहर के प्राचीन यशवंतगंज स्थित रामानुजकोट मंदिर में सिंह की संक्रांति और रोहिनी उदियात नक्षत्र में 21 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जाएगी। गादीस्थ रंगाचार्य महाराज के सान्निध्य और विजयाचार्य स्वामी के मार्गदर्शन में शाम 6 बजे श्रीकृष्ण भगवान के श्री विग्रह का एकांत अभिषेक के बाद श्रीकृष्ण को पंचमुखी काष्ठ निर्मित शेषनाग के झूले में विराजमान किया जाएगा। रात 12 बजे महाआरती होगी।

राधा-गोविंद के लिए वृंदावन से आए फूल और पोषाक

निपानिया स्थित इस्कान मंदिर में चल रहे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में 19 अगस्त को भगवान राधा गोविंद के दर्शन पूरे दिन होंगे। सुबह 10.30 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक कलश सेवा में शामिल भक्तों द्वारा भगवान का पंचामृत से अभिषेक एवं पूजन किया जाएगा। सभी भक्तों को खिचड़ी एवं खीर प्रसाद बांटा जाएगा। रात 10.30 बजे भगवान का अभिषेक एवं ठीक 12 बजे महाआरती का आयोजन होगा। गुरुवार को दक्षिण अफ्रीका मूल के नाइजीरिया के मुस्लिम राजघराने में जन्मे संत ईश्वरदास का पहले रेलवे स्टेशन और बाद में इस्कान मंदिर में आगमन पर स्वागत किया गया। इस्कान इंदौर के अध्यक्ष स्वामी महामनदास व संयोजक हरि अग्रवाल ने बताया संत ईश्वरदास का 1977 के पूर्व नाम ईस्माइल था। वे एक अच्छे वक्ता, लेखक और संत हैं। उनकी अनेक पुस्तकें विदेशों में काफी लोकप्रिय हैं।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close