JEE Main: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेईई) मेन के पहले चरण की परीक्षा 24 जनवरी से करवाने जा रही है। परीक्षा में अब समय कम है। विशेषज्ञ विद्यार्थियों को स्वास्थ्य का ध्यान रखने की सलाह दे रहे हैं। इस बार देश के 290 और विदेश के 18 शहरों में परीक्षा आयोजित होगी। इंदौर में भी तीन से चार केंद्र होंगे। इस बार इंदौर के कई विद्यार्थियों को भोपाल के परीक्षा केंद्र दे दिए गए हैं। शहर से करीब सात हजार विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। इनमें से करीब ढाई हजार विद्यार्थी भोपाल में परीक्षा देंगे।

भोपाल केंद्र दिए जाने से नाराज कई विद्यार्थियों ने एनटीए को ईमेल कर शिकायत भी दर्ज करवाई है। विद्यार्थियों ने कहा कि इससे उनके प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है। एक विद्यार्थी ने ईमेल में लिखा है कि इंदौर के अलावा उज्जैन, देवास और रतलाम में भी परीक्षा केंद्र बनाए जाते हैं। आनलाइन आवेदन में इसका उल्लेख किया था, लेकिन मुझे भोपाल केंद्र दे दिया गया। आनलाइन आवेदन भरते समय भोपाल केंद्र विकल्प के दौर पर मौजूद ही नहीं था। एनटीए की ओर से अब तक ईमेल का जवाब नहीं दिया गया है। इस बार से देशभर के 9.15 लाख विद्यार्थी शामिल होंगे। यह संख्या पिछले साल के मुकाबले 43 हजार ज्यादा है। परीक्षा सुबह नौ से दोपहर 12 और दोपहर दो बजे से शाम छह बजे तक होगी।

आखिरी समय में यह ध्यान रखें

परीक्षा विशेषज्ञ विजित जैन का कहना है कि कई विद्यार्थी आधी रात तक पढ़ाई करते रहते हैं। ऐसे में उन्हें दिन में सोने की आदत हो जाती है। चूंकि, अब परीक्षा में कुछ ही दिन बचे हैं। ऐसे में विद्यार्थी बाडी क्लाक में बदलाव कर दें। अब रात 10 बजे तक सो जाएं और सुबह छह बजे उठ जाएं। इससे परीक्षा के दौरान नींद का अहसास नहीं होगा। अब ज्यादा कुछ नया नहीं पढ़ते हुए ऐसे टापिक पर ध्यान दें, जिन्हें याद करना जरूरी होता है। जैसे केमिस्ट्री में आर्गेनिक और इन आर्गेनिक। फिजिक्स में प्रिंसिपल आफ कम्यूनिकेशन और सेमीकंडक्टर। इसमें कई तरह के डाटा होते हैं, इसलिए एनसीईआरटी की किताबों का अच्छे से अध्ययन कर लेना चाहिए। माक टेस्ट का ज्यादा से ज्यादा अभ्यास करना भी फायदेमंद रहेगा।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close