इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। काकड़े के जले हुए तेल से नमकीन बनाया जा रहा था। वह भी बार-बार तलने के कारण काला पड़ गया था। कारखाने का लाइसेंस भी नहीं था। चारों ओर गंदगी और इसी गंदगी के बीच रखा हुआ था नमकीन। नमकीन के पैकेट पर न तो बैच नंबर लिखा था, न तारीख और निर्माता का नाम। नमकीन के हब और नमकीन के शौकीनों के शहर में ऐसा भी नमकीन तैयार हो रहा है।

खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) का दल गुरुवार को तेजपुर गड़बड़ी इलाके की लेकपार्क कॉलोनी में पहुंचा तो इसी हकीकत से रूबरू होना पड़ा। कारखाना संचालक के खिलाफ राजेंद्र नगर थाने में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया गया है। दरअसल, लेकपार्क कॉलोनी में प्रीमिएट वेंचर्स नाम के नमकीन कारखाने पर एफडीए के दल ने छापामार कार्रवाई की। इस दौरान यहां कारखाना संचालक पंकज वाधवानी मिला। कारखाने में एकनाथ, इंदौरश्री और भैयाजी के नाम से नमकीन पैक किया जा रहा था। नमकीन के पैकेट्स पर निर्माता का नाम और पता अंकित नहीं था। इससे साफ जाहिर हो रहा था कि नमकीन उद्यमी निर्माण और पैकिंग स्थल की सही जानकारी छिपाकर शासकीय विभागों और आम उपभोक्ताओं को भ्रमित कर रहा था। खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम के तहत यहां लाइसेंस की शर्तों का भी उल्लंघन किया जा रहा था।

पूछताछ में वाधवानी ने बताया कि पहले वह माणिकबाग में साधु नगर में नमकीन बनाता था। कुछ समय पहले उसने लेकपार्क कॉलोनी में कारखाना शिफ्ट किया। बैच नंबर और निर्माता का नाम न लिखने की बात पर उसने बहाना बनाया कि मशीन खराब है। एफडीए की ओर से खाद्य सुरक्षा अधिकारी सुभाष खेड़कर, अवशेष अग्रवाल और राजू सोलंकी की टीम पहुंची थी। अपर कलेक्टर अभय बेड़ेकर के मुताबिक, कारखाने में गंदे तेल से सड़ा हुआ नमकीन बनाया जा रहा था। कारखाना भी बिना लाइसेंस के चल रहा था। कारखाने से नमकीन के अलावा कॉटन सीड के तेल, बेसन आदि सामान के नमूने लिए गए हैं।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस