इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ रविवार को देपालपुर में ट्रैक्टर रैली में शामिल होने आए थे। उससे पहले उन्होंने विमानतल पर अनौपचारिक चर्चा की। नाथ ने कहा कि रायपुर में हुई एक बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उनके करीब बैठे थे। उन्होंने मुझसे कहा था कि हमें प्रदेश से राज्यसभा के लिए दूसरी भी सीटें चाहिए। इसके लिए आपकी सरकार जाती है तो जाए। मैंने भी कहा, तो ठीक है जीत कर बताइए। 90 विधायक हमारे पास भी थे, लेकिन मेरा सौदे की राजनीति में कभी विश्वास नहीं रहा। भाजपा के नेताओं से भी मेरे वर्षों पुराने संबंध हैं, लेकिन मैंने हमेशा यह सिद्धांत रखा कि दूसरों की राजनीति में हस्तक्षेप नहीं करूंगा और न कोई मेरी राजनीति में हस्तक्षेप करे।

क्या आप केंद्र की राजनीति में जाना चाह रहे हैं?

- मैं प्रदेश छोड़कर कहीं नहीं जा रहा। मुझे दूसरे राज्यों में पार्टी की जो मदद करनी होती है, वह करता हूं। अभी संगठन को मजबूत करने पर जोर है।

अगले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की क्या तैयारी है?

- हमारा मुकाबला भाजपा के संगठन और धन-बल से है। मध्य प्रदेश की जनता ने कांग्रेस शासन का कार्यकाल पसंद किया था।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस का साथ छोड़ने की क्या वजह थी। वे आपसे क्या चाहते थे?

- सिंधिया अपनी हार झेल नहीं पाए। वे किसी बड़े नेता से चुनाव नहीं हारे थे और न ही जीत का अंतर 10-20 हजार वोटों का था। हार के बाद से ही उनका मन बदलने लगा था।

लोकसभा चुनाव में प्रदेश में कांग्रेस का प्रदर्शन कमजोर रहा?

- भाजपा ने लोकसभा चुनाव में कालेधन और रोजगार की बात ज्यादा नहीं की। उन्होंने राष्ट्रवाद के मुद्दे पर चुनाव लड़ा। केंद्र में कांग्रेस की सरकार शराफत वाली थी। भाजपा सरकार सरकारी एजेंसियों का ज्यादातर उपयोग बदले की कार्रवाई के लिए कर रही है। ऐसा इमरजेंसी के समय भी नहीं हुआ।

प्रदेश में कांग्रेस को उपचुनाव में हार का सामना क्यों करना पड़ा?

- मैंने चुनाव के नतीजों का बारीकी से पोस्टमार्टम किया है। समय आने पर इसका खुलासा करूंगा। विश्व के कई बड़े देशों के पास ज्यादा उन्नत वाली तकनीक है, फिर भी वे ईवीएम से चुनाव नहीं करवाते हैं।

किसान रैली में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने खुद चलाया ट्रैक्टर

कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस ने रविवार को देपालपुर में प्रदर्शन किया। रैली में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ पहुंचे और भारतीय जनता पार्टी और प्रदेश सरकार को कई मुद्दों पर घेरा। कमल नाथ ने कहा कि डीजल-पेट्रोल के दाम आसमान पर हैं। दूसरी ओर आलू, प्याज, सोयाबीन की फसलों के दाम नहीं मिल रहे हैं। कमल नाथ 24 अवतार मंदिर दर्शन के लिए गए जहां पर उन्होंने ब्रह्मलीन गुरुदेव जयकरणदास जी भक्तमाली परमहंस महाराज के चरण पादुका की पूजा की। इस रैली में हिस्सा लेने वालों में विधायक विशाल पटेल, जीतू पटवारी, अरुण यादव, सज्जन सिंह वर्मा, विजयलक्ष्मी साधौ, बाला बच्चन सहित कई नेता मौजूद रहे।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags