इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। दुष्कर्म के आरोप में फरार चल रहे बड़नगर के कांग्रेसी विधायक मुरली मोरवाल के बेटे करण मोरवाल को इंदौर की महिला थाना पुलिस ने मक्सी से गिरफ्तार कर लिया है। उसे महिला थाना पुलिस इंदौर लेकर पहुंची है। इंदौर पुलिस और महिला थाना पुलिस को उसकी लंबे समय से तलाश थी। करण पर इंदौर के राजेन्द्र नगर में रहने वाली महिला नेत्री ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। महिला थाना पुलिस ने करण को मक्सी बायपास पर पकड़ा। वह अपने दोस्त राहुल के साथ भागने की फिराक में था। पुलिस ने उनकी कार भी जब्त कर ली है। कुछ ही दिनों में प्रदेश में उपचुनाव होने हैं, ऐसे में हालांकि मोरवाल की गिरफ्तारी के टाइमिंग को लेकर भी राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। कोर्ट ने मोरवाल को एक दिन के पुलिस रिमांड पर सौंपा है। पुलिस ने कोर्ट से दो दिन का रिमांड मांगा था। इसके बाद उसे वापस महिला पुलिस थाना पूछताछ के लिए लाया गया।

करण के डीएनए टेस्ट की तैयारी

पुलिस ने बताया कि करण के डीएनए टेस्ट की तैयारी की जा रही है। वह फरारी के दौरान कहां-कहां रहा, इसे लेकर पूछताछ की जाएगी। इसके साथ ही आरोपित को संरक्षण देने वालों की जानकारी जुटाई जा रही है, उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। आरोपित की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने एक दिन पहले ही शाजापुर के पास एक फार्म हाउस पर छापेमारी कार्रवाई की थी, लेकिन करण को पुलिस के आने की भनक लग गई और वह मौके से फरार हो गया था। अब मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने आरोपित को मक्सी से गिरफ्तार किया है।

दो बार घोषित हुआ इनाम

महिला थाना टीआइ ज्योति शर्मा करण मोरवाल को कोर्ट में पेश करने के लिए अपने साथ लेकर गई। आोरपित को कोर्ट रूम नंबर 14 में पेश किया गया। करण मोरवाल लंबे समय से फरार चल रहा था। फरारी के दौरान पुलिस ने आरोपित पर घोषित इनाम राशि की रकम भी दो बार बढ़ाकर 25 हजार रुपये कर दी गई थी। वहीं आरोपित पक्ष की तरफ से हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए जमानत याचिका भी लगाई थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

करीब छह महीने से फरार चल रहा था करण मोरवाल और पुलिस ने उसे भगोड़ा घोषित कर दिया था। इस दौरान पुलिस ने करण पर घोषित इनामी राशि को दो बार बढ़ दिया था। पुलिस ने पहले 10000 रुपये से बढ़ाकर इनामी राशि 15 हजार रुपये की थी। इसके बाद कुछ ही दिनों पहले इसे फिर से बढ़ाकर 25 हजार रुपये कर दी थी।कुछ ही दिन पहले प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी चेतावनी देते हुए कहा था कि करण जल्द ही सरेंडर करें नहीं तो ऐसी कार्रवाई की जाएगी जो दूसरे लोगों के लिए नजीर बनेगी।

इसी बीच पुलिस ने करण की तलाश में कई जगह दबिश दी थी। इंदौर पुलिस ने करण की संपत्ति भी राजसात की थी। पूछताछ के लिए उनके छोटे भाई को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था, जिसके बाद विधायक मुरली मोरवाल को थाने में आना पड़ा था। करण की अग्रीम जमानत के लिए हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई थी, जो खारिज हो गई थी। इसके बाद से ही करण की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही थीं। मामले में राजनीति भी गर्मा गई थी। इस बीच पीड़िता पर भी केस वापस लेने का दबाव भी बना। कुछ आडियो भी वायरल हुए थे जिसमें महिला नेत्री और कांग्रेस के शीर्ष नेता की ओर से संदेश लाने वाले व्यक्ति के बीच की बातचीत भी थी।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local