लोकेश सोलंकी, इंदौर MPPSC Indore। मप्र लोकसेवा आयोग (पीएससी) ने राज्यसेवा की मुख्य परीक्षा के लिए उत्तर पुस्तिका का फॉर्मेट बदल दिया है। राज्यसेवा-2019 की मुख्य परीक्षा से नया फॉर्मेट लागू होना है। उम्मीदवारों के प्रैक्टिस के लिए पीएससी ने नए प्रारुप का नमूना जारी भी कर दिया है। उम्मीदवार शिकायत कर रहे हैं कि आयोग ने प्रश्नों का उत्तर लिखने के लिए जगह कम छोड़ी है। 100 शब्द वाले उत्तरों को लेकर उम्मीदवार परेशानी जता रहे हैं। नईदुनिया से बात करते हुए अब पीएससी की ओर से कहा गया है कि विद्यार्थियों की परेशानी का संज्ञान लेकर प्रारुप में आवश्यक परिवर्तन पर आयोग जल्द ही निर्णय लेगा।

बीते वर्षों की परीक्षाओं में पीएससी प्रश्नपत्र अलग से देता था और उत्तर पुस्तिका अलग से। इस वर्ष नए प्रारुप में प्रश्न और उत्तर पुस्तिका को एक ही कर दिया गया है। परीक्षा में शामिल हो रहे सभी उम्मीदवार को एक ही कॉपी दी जाएगी। इसमें प्रश्न छपे होंगे उनके नीचे उत्तर लिखने की खाली जगह दी जाएगी। प्रश्नपत्र में तीन तरह के प्रश्न होंगे। तीन अंकों के अतिलघुत्तरीय प्रश्न, छह अंक वाले लघुउत्तरीय प्रश्न और 15 अंक वाले दीर्घ उत्तरीय प्रश्न। अति लघुउत्तरीय प्रश्न के जवाब 15 से 20 शब्दों में देना है। लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर 100 शब्द में लिखना है, जबकि दीर्घ उत्तरीय प्रश्न के दवाब 300 शब्दों में लिखना होंगे।

पीएससी की ओर से जारी प्रारुप में 20 शब्द में उत्तर देने वाले प्रश्न के नीचे उत्तर लिखने के लिए चार लाइन की जगह छोड़ी गई है। 300 शब्द वाले प्रश्न के नीचे उत्तर लिखने के लिए तीन पन्नों की खाली जगह दी गई है जिसमें 65 से ज्यादा लाइनें मिल रही है, जबकि 100 शब्द वाले प्रश्न के उत्तर के लिए 11 लाइनें ही छोड़ी गई है। उम्मीदवारों ने सवाल उठाते हुए आपत्ति दर्ज कराई है। कि 20 शब्द के लिए चार लाइन और 300 शब्द के लिए तीन पेज और 65 से ज्यादा लाइनें है तो 100 शब्द के उत्तर लिखने के लिए इन्हीं के अनुपात में एक पेज की जगह तो मिलना ही चाहिए थी।

आयोग ने नए प्रारुप के साथ निर्देश भी जारी कर दिया है कि तय शब्दों से ज्यादा में जवाब लिखने पर अंक काट लिए जाएंगे। उम्मीदवारों को मजबूरी में अपनी राइटिंग को छोटी कर जैसे-तैसे खाली जगह में उत्तर लिखना होगा। इसमें परेशानी तो आएगी ही उम्मीदवार का समय भी चला जाएगा। पीएससी को 100 शब्द के उत्तर के लिए पर्याप्त जगह देना चाहिए। कॉपी के फॉर्मेट से साफ लग रहा है कि उसका आकार भी ए-4 साइज का होगा। ऐसे में परेशानी और बढ़ जाएगी।

परिवर्तन करेंगे

आयोग के ध्यान में यह समस्या आ गई है। अध्यक्ष के सामने इसका प्रस्ताव भी रख दिया गया है। चर्चा चल रही है कि उत्तर लिखने के लिए जगह बढ़ाई जाएगी। जल्द ही निर्णय लेकर नया फॉर्मेट उम्मीदवारों की प्रेक्टिस के लिए जारी कर दिया जाएगा।

- डॉ. रविंद्र पंचभाई, परीक्षा नियंत्रक, मप्र लोकसेवा आयोग

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags