इंदौर। Indore Zoo शेरनी बिजली ने कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय (Kamla Nehru Prani Sangrahalaya Indore) में दो शावकों को बुधवार को जन्म दिया। तीन दिन पहले मेघा और आकाश के जोड़े ने भी तीन बच्चों को जन्म दिया था। बच्चों की देखभाल के चलते मेघा और बिजली को अलग रखा गया है। इनके पास किसी को आने नहीं दिया जा रहा है। इन पांचों को मिलाकर शेरों की संख्या अब 14 पर पहुंच गई है। मेघा इससे पहले भी चार बार शावकों को जन्म दे चुकी है जबकि बिजली ने पहली बार शावकों को जन्म दिया है। एक बार मेघा से जन्मे बच्चों की मौत भी हो चुकी है। चिड़ियाघर प्रशासन इस बात का भी ध्यान रख रही है कि मां खुद ही शावकों को किसी प्रकार से नुकसान न पहुंचाए। हालांकि अब 15 दिन पहले ही पवन और गगन दो शेरों को चंडीगढ़ चिड़ियाघर भेजा गया था जबकि एक शेर को रेटीक्यूलेटेड पायथन के बदले पुणे भेजा जाना है।

इधर औरंगाबाद चिड़ियाघर ने भी इंदौर चिड़ियाघर से एक शेर की मांग की है। चिड़ियाघर प्रभारी डॉ. उत्तम यादव ने बताया कि 16 नवंबर मेघा और 20 नवंबर को आज बिजली ने शावकों को जन्म दिया है। सभी स्वस्थ हैं। उनकी देखरेख की जा रही है।

Snack House Indore Zoo : बैंडेट क्रेट के काले-पीले चकत्तों ने चौंकाया

कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय में बनाए गए सांप घर के शुरू होने के दूसरे दिन बुधवार को सांपों को देखने पांच हजार दर्शक पहुंचे। आम दिनों में दर्शकों की संख्या दो-तीन हजार रहती है। इस दौरान बच्चों को विषैले रसेल वाइपर और काले-पीले चकत्ते वाले बैंडेट क्रेट ने खासा चौंकाया। सांप घर की दीवार पर दी जा रही सांपों की रोचक जानकारी भी दर्शकों को खासी पसंद आ रही है। पोस्टर के माध्यम से सांपों के जहर, सांपों की विष वितरण प्रणाली, प्रजनन प्रक्रिया सहित कई रोचक जानकारियां दी गई हैं। सांप घर में 15 कक्ष बनाए गए हैं। इनमें 15 प्रजातियों के 30 सांपों को रखा गया है। 750 फीट लंबा और 72 फीट चौड़े रेपटाइल्स हाउस में दर्शक औसतन 20 मिनट बिता रहे हैं। सांप घर को कुछ इस तरह बनाया गया है कि उन्हें प्राकृतिक वातावरण मिले। हर इनक्लोजर की छत को इस तरह से बनाया गया है कि सांप धूप सेक सकें।

शनिवार और रविवार को सांप घर में प्रवेश पर लगाया जा सकता है शुल्क : सांप घर में प्रवेश के लिए दर्शकों से अभी तक कोई शुल्क नहीं लिया जा रहा है। उन्हें सिर्फ चिड़ियाघर में प्रवेश के लिए 20 रुपए का प्रवेश शुल्क देना होता है पर अगामी दिनों में शनिवार और रविवार को सांप घर में प्रवेश पर अलग से प्रवेश शुल्क दर्शकों को देना पड़ सकता है। चिड़ियाघर प्रबंधन की मानें तो आम दिनों में भी सांप घर के चलते दर्शकों की संख्या दोगुना हो गई है। यहां दर्शक औसतन 20 मिनट तक सांपों को निहार रहे हैं। ऐसे में शनिवार और रविवार जब दर्शकों की संख्या दस हजार से अधिक हो जाती है तो दर्शकों को प्रवेश देना मुश्किल हो जाएगा। इसके चलते शनिवार और रविवार को सांप घर देखने के लिए दर्शकों को अलग से शुल्क देना पड़ सकता है।

दी जा रही हैं ये जानकारियां

- सांप 150 डिग्री तक खोल लेता है मुंह, ब्लैक माबा ने काटा तो मौत तय ह ब्राजील में एक ऐसा टापू है जहां लोगों का आना-जाना मना है क्योंकि हर वर्ग मीटर में पांच सांप नजर आएंगे।

- दुनिया के दस सबसे जहरीले सांप आस्ट्रेलिया में हैं।

- किंग कोबरा का जहर इतना तेज होता है कि 7 मिली जहर से 20 व्यक्तियों की मौत हो सकती है।

- सांप की पलकें नहीं होती हैं। वह अपनी आंखें बंद नहीं कर सकता। इसलिए वह खुली आंखों से ही सोता है।

Posted By: Prashant Pandey