इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Liquor Mafia Gang War Indore। गोलीकांड में गिरफ्तार गैंगस्टर सतीश भाऊ रसूखदारों को धमकाने के लिए फर्जी सिम कार्डों का उपयोग करता था। सिम दूसरों के नाम से खरीदे गए थे। शनिवार रात पुलिस ने उसके खिलाफ अपहरण, धोखाधड़ी और ब्लैकमेलिंग का केस दर्ज किया। उस पर युवक को अगवा कर दस्तावेज हथियाने का आरोप है। विजयनगर थाना पुलिस के मुताबिक निखिल गोमे नामक युवक की शिकायत पर सतीश भाऊ (गैंगस्टर), रवि चिकलिस (शूटर), रवि यादव (गैंग मेंबर), जितेंद्र उर्फ बाबू (साला), कृष्णा (साथी) के खिलाफ विभिन्न् धाराओं में केस दर्ज किया गया है। निखिल ने पुलिस को बताया कि वह अहाते पर काम करता था। इस दौरान आरोपितों ने मेघदूत गार्डन के पास से अगवा कर लिया। आरोपित श्मशान के पास ले गए और वहां सतीश भाऊ उर्फ सतीश मराठा मिला। उसने पिस्टल अड़ाई और गोली मारने की धमकी दी। उसके दस्तावेज और आइडी ले ली और उसके नाम से चार फर्जी सिमें खरीद लीं।

फर्जी सिम कार्ड से बिल्डरों को धमकाता था गैंगस्टर

सूत्रों के मुताबिक गैंगस्टर सतीश भाऊ से विजय नगर थाना टीआइ तहजीब काजी, सीएसपी राकेश गुप्ता, एएसपी राजेश रघुवंशी और एसआइटी निरीक्षक देवेंद्र मरकाम पूछताछ कर रहे हैं। उसके पास से कईं मोबाइल और सिम कार्ड मिले हैं। मोबाइल देवी अहिल्या गृह निर्माण सहकारी संस्था और जनकल्याण सहकारी संस्था की रसीदें भी मिली है। उसने बिल्डर संजय दासौत और गिरीश जैन को धमकाना भी कुबूला है। पुलिस को यह भी खबर मिली है कि आरोपित ने निरंजनपुर क्षेत्र में सब्जी मंडी में दुकानों पर कब्जा भी कर लिया था।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local