LockDown in Indore : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। लॉकडाउन और कर्फ्यू के दौरान गलियों में फेरी लगाकर फल और सब्जियां बेचने वालों पर रविवार से सख्ती शुरू कर दी गई। सोमवार दोपहर तक पूर्व-पश्चिम में 150 से अधिक ठेलेवालों को पकड़ा। कई थाने तो आलू-प्याज और सब्जी के ठेलों से पट गए। कुछ लोग ऐसे भी थे जो घर से दवा का बहाना बनाकर कर्फ्यू देखने आए थे। पुलिस ने सभी को एसडीएम कोर्ट में पेश किया और एक निजी कॉलेज में बनाई अस्थायी जेल में भेज दिया। अमूमन पुलिस बदमाशों को सोते हुए पकड़ने के लिए सुबह-सुबह दबिश देती है। लेकिन सोमवार सुबह बदमाशों को नहीं बल्कि सब्जीवालों को पकड़ने निकली। दोपहर होते-होते ज्यादातर थाने सब्जी के ठेलों और दोपहिया वाहनों से भर गए। द्वारकापुरी थाना पुलिस ने दोपहर 12 बजे तक 36 लोगों को पकड़ लिया। इनमें छह महिलाएं भी शामिल थीं।

एएसपी मनीष खत्री के मुताबिक, कुछ लोग ऐसे थे जो आलू-प्याज और पालक बेच रहे थे। कुछ युवक ऐसे थे जो मुंह पर रूमाल बांधकर कर्फ्यू देखने निकले थे। पुलिस ने सभी के विरुद्ध धारा 188 और 151 के तहत केस दर्ज किया है। महिलाओं पर धारा 151 नहीं लगाई और थाने से ही जमानत देकर रिहा कर दिया। दोपहर को पुरुषों को एसडीएम कोर्ट में पेश कर जेल वारंट बनवा लिया गया। सभी को सांवेर रोड स्थित एक कॉलेज में बनाई अस्थायी जेल में भेज दिया।

टीआई ने थाने में लगवाया टेंट, संतरी और सिपाही ने पंगत लगवाकर मुलजिमों को खिलाया खाना

द्वारकापुरी थाना से लाइव : मुकेश मंगल । अमूमन ऐसी व्यवस्था किसी शादी समारोह में आए मेहमानों के लिए ही होती है। लेकिन यहां तो पुलिस मुलजिमों की मेहमाननवाजी में लगी हुई है। दरअसल यह नजारा द्वारकापुरी थाने का है। जहां टीआइ संजय शुक्ला खुद खड़े होकर टेंट लगवा रहे हैं। दरअसल सामाजिक दूरी बनाए रखने के कारण पुलिस मुलजिमों को लॉकअप में नहीं रख सकती थी। टीआइ ने आनन-फानन में परिसर में टेंट लगवा दिया। सुबह जल्दी पकड़ने के कारण मुलजिमों को भूख लगने लगी। तत्काल उनके भोजन की व्यवस्था की गई। संतरी ने सभी को पंगत की तरह कतार से बैठाया और एक सिपाही ने खाना परोसा। खाना देने के पहले बाकायदा सैनिटाइजर से हाथ भी धुलवाए गए। कुछ मुलजिम ऐसे थे जो पहली बार थाने की चौखट तक आए थे। घबराहट में खाने से मना किया तो टीआइ ने समझा-बुझाकर खाना खिलाया।

दोपहर को पुलिस लाइन से बस बुलाई और सभी को एसडीएम कोर्ट में पेश कर दिया। हालांकि प्रधान आरक्षक आनंद मिश्रा जेल वारंट बनने के बाद भी घंटों मुलजिमों को लेकर खड़े रहे। दरअसल अफसरों ने यह नहीं बताया कि उन्हें कहां लेकर जाना है। कोर्ट के बाबू ने यह तो कहा कि अस्थायी जेल में भेजना है। लेकिन जेल कहां बनी यह नहीं बताया। देर शाम कहा कि भंवरकुआं क्षेत्र में अहिरंत कॉलेज ले जाओ। मिश्रा ने पुलिस भेजी तो गार्ड ने कहा कि यहां जेल नहीं बनी। करीब 6.30 बजे कलेक्टर ने आदेश जारी करते हुए सांवेर रोड स्थित वैष्णव विश्वविद्यालय को अस्थायी जेल बना दिया।

इंदौर नगर निगम की टीम ने भी जब्त किए 36 ठेले जब्त

शहर में लॉकडाउन और कर्फ्यू के बावजूद सब्जियां लगातार आ रही हैं। ठेले पर सब्जी बेचने वाले भी कॉलोनियों में घूम रहे हैं। नगर निगम ने सोमवार को फिर कार्रवाई करते हुए शहर में अलग-अलग जगह घूमने वाले सब्जी विक्रेताओं के 36 ठेले जब्त किए। उपायुक्त महेंद्रसिंह चौहान के नेतृत्व में सात अलग-अलग दलों ने शहरभर में यह कार्रवाई की। निगम के सहायक रिमूवल अधिकारी वीरेंद्र उपाध्याय, बबलू कल्याणे और सुपरवाइजर विनीत तिवारी ने बताया कि यह कार्रवाई पालदा, स्कीम-114, बंगाली कॉलोनी चौराहा के आसपास, खातीवाला टैंक, सिंधी कॉलोनी, तिलक नगर, निरंजनपुर और कालानी नगर जैसे क्षेत्रों में की गई। इस दौरान करीब डेढ़ ट्रक सब्जी जब्त की गई और उसे सरकारी किचन में भेजा गया जहां गरीब-मजदूरों के लिए भोजन तैयार कर पैकेट बनाए जा रहे हैं। कलेक्टर मनीष सिंह ने भी निगम के रिमूवल अमले को निर्देश दिए हैं कि शहर में जहां-तहां घूमकर सब्जी बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना