Lockdown in MP : इंदौर। मध्य प्रदेश में कोरोना के मद्देनजर पैदा हुई असाधारण परिस्थितियों को देखते हुए जिलों में लॉकडाउन लागू किया जा रहा है। ऐसे में कारखानों, दुकानों और वाणिज्यिक संस्थानों के बंद रहने और कर्मचारियों व कर्मकारों के अनुपस्थित रहने पर उनकी सेवा समाप्ति, छंटनी या सर्विस ब्रेक नहीं किया जाएगा। न ही उनके वेतन में कटौती की जाएगी। इस संबंध में मध्य प्रदेश के श्रम आयुक्त आशुतोष अवस्थी ने कारखानों, दुकानों और वाणिज्यिक संस्थानों को परिपत्र जारी कर लॉकडाउन के प्रतिबंधों का पालन करने के निर्देश दिए हैं। परिपत्र में कहा गया है कि कारखाना, दुकान या व्यापारिक संस्थान बंद रहने की अवधि में कार्यरत कर्मचारियों के वेतन या अन्य देय, वैधानिक स्वत्व में किसी तरह की कोई कटौती नहीं की जाएगी।

यदि कोई कर्मकार इस अवधि के पहले से अवकाश पर है और कर्तव्य पर उपस्थित नहीं हो पा रहा है तो ऐसे हालात में उसे सवैतनिक अवकाश मंजूर किया जाएगा। अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े कारखानों, दुकानों व संस्थानों जैसे खाद्य सामग्री निर्माण, फूड प्रोसेसिंग, दवा, फार्मा निर्माण, मास्क, सैनिटाइजर निर्माण, अस्पताल, चिकित्सा उपकरण दुकान, पेट्रोल पंप, टिफिन सेवा आदि में कार्यरत कर्मकारों को संक्रमण से बचाने के लिए सुरक्षा उपकरण, मास्क, सैनिटाइजर, साबुन अदि उपलब्ध कराए जाएंगे। किसी भी कर्मकार के बीमार होने पर उसका तत्काल स्वास्थ्य परीक्षण करवाकर नि:शुल्क इलाज कराया जाएगा।

इंदौर नगर निगम ने बंद कराई आठ आइस फैक्ट्री

कोरोना वायरस का फैलाव रोकने के लिए नगर निगम ने सोमवार को आठ आइस फैक्ट्रियां बंद कराईं। फैक्ट्रियों के संचालन की सूचना मिलने के बाद निगमायुक्त आशीष सिंह ने अफसरों को इन्हें बंद कराने और इनके फोटो भेजने के निर्देश दिए। इस पर अधिकारियों ने उक्त कार्रवाई की। बंद कराई गई फैक्ट्रियों में जोन तीन के तहत पोलोग्राउंड स्थित जवाहर आइस फैक्ट्री, सांवेर रोड स्थित वरुण झांसीवाला एंड ब्रदर्स की तीन फैक्ट्रियां, देपालपुर आइस फैक्ट्री, राजेंद्र नगर स्थित नारंग आइस फैक्ट्री, कैट रोड स्थित अग्रवाल आइस फैक्ट्री और सांवेर रोड स्थित पवार आइस फैक्ट्री शामिल हैं। आयुक्त ने अफसरों से कहा है कि वे अपने क्षेत्रों में जहां भी आइस फैक्ट्री संचालित मिले, उसे तुरंत बंद कराएं।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local