इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पंच कल्याणक महोत्सव का समापन शनिवार को शांतिनाथ दिगंबर जैन त्रिमूर्ति मंदिर कालानी नगर में हुआ। इस अवसर पर भगवान का मोक्ष कल्याणक हुआ। इसमें भगवान आदिनाथ को निर्वाण लाडू अर्पित किए गए। विश्वशांति महायज्ञ की पूर्णाहुति और शांति पाठ के बाद शोभायात्रा निकाली गई। इसके बाद जिन बिंबों को नवीन वेदी पर विराजित किया गया।

इस मौके पर आचार्य प्रज्ञासागर ने कहा कि मनुष्य का जीवन तोते के समान हो गया है, जो पिंजरे में कैद है। पिंजरे का दरवाजा खुल भी जाए, तो वह बाहर नहीं निकलना चाहता है। मनुष्य जीवन के लिए संसार से मुक्ति सर्वश्रेष्ठ उपलब्धि होती है। मंदिर अध्यक्ष विमल बड़जात्या, सुरेंद्र कलशधर, किशोर शाह और अशोक गंगवाल ने बताया कि इस मौके पर अभिषेक, परिमार्जन व शांतिधारा हुई। आचार्यश्री के पाद प्रक्षालन का सौभाग्य राजेश उषा कानूनगो परिवार और शास्त्र भेंट का सौभाग्य चंदाबाई बड़जात्या परिवार को मिला। इस अवसर पर कवि सत्यनारायण सत्तन, भाजपा नेता दीपक जैन, संदीप दुबे ने आचार्यश्री को श्रीफल भेंट कर आशीर्वाद लिया। इस मौके पर विधायक संजय शुक्ला, विनय बाकलीवाल, सदाशिव यादव भी उपस्थित थे।

मुनि आदित्य सागर को इंदौर आगमन के लिए श्रीफल भेंट

इंदौर। मुनि आदित्य सागर को इंदौर आगमन के लिए दिगंबर जैन समाज सामाजिक संसद के पदाधिकारी व कार्यकारिणी सदस्यों ने हाटपीपल्या में जाकर श्रीफल भेंट किया। श्रीफल उन्हें 10 से 15 जून तक अंजनी नगर एरोड्रम रोड पर आदिनाथ जन्म कल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव के लिए भेंट किया। वहीं मुनिश्री का जन्मोत्सव 24 मई को दोपहर 1.30 बजे मनाया जाएगा। इस अवसर पर सामाजिक संसद के अध्यक्ष राजकुमार पाटोदी, देवेंद्र सोगानी, कमलेश कासलीवाल, राकेश विनायका, ऋषभ पाटनी, सुरेंद्र मोदी आदि मौजूद थे।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close