Lumpy Skin Disease: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर संभाग के विभिन्ना जिलों में 3300 से अधिक पशु लंपी रोग से प्रभावित हुए हैं। इनमें से 55 गायों की मौत भी हुई है। सर्वाधिक 17-17 गायों की मौत खंडवा और बुरहानपुर जिलों में हुई है। इंदौर जिले के सेमदा गांव में भी अब तक 22 गायों की मौत हो चुकी है, लेकिन पशु चिकित्सा विभाग के रिकार्ड में लंपी से केवल पांच गायों की मौत ही दर्ज है। अभी तक संभाग के सभी जिलों में पशुओं को एक लाख सात हजार से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं।

कृषि उत्पादन आयुक्त शैलेंद्रसिंह की अध्यक्षता में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई संभाग स्तरीय बैठक में भी लंपी रोग पर चिंता जाहिर की गई। संभागायुक्त डा. पवन कुमार शर्मा ने बताया कि लंपी रोग की प्रतिदिन समीक्षा की जा रही है। वैक्सीन की सतत उपलब्धता के प्रयास किए जा रहे हैं।

पशुपालन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव जेएन कंसोटिया ने कहा कि जिन पशुओं को लंपी की वैक्सीन लगाई जा चुकी है, उनके सींग में चिन्ह लगाकर उन्हें चिन्हित भी किया जाए। कृषि उत्पादन आयुक्त ने कहा कि इंदौर संभाग में दुग्ध उत्पादन की विपुल संभावना है। पशु नस्ल सुधार द्वारा इसे और बढ़ावा दिया जाए। संभाग में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाएं। किसानों के खेत और भंडार गृह से सीधे कृषि उपज उनके अपने दाम पर बिक सके इसके लिए ई- मंडी को भी प्रोत्साहित किया जाए।

बैठक में अधिकारियों ने बताया कि ई-मंडी के लिए प्रदेश की आठ चयनित मंडियों में इंदौर भी शामिल है। ई-मंडी के माध्यम से व्यापार करने के लिए एमपी फार्मगेट एप बनाया गया है। संभाग में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देेने के प्रयास किए जा रहे हैं। प्राकृतिक खेती में रुचि रखने वाले किसानों का पंजीयन कराया जा रहा है। इंदौर संभाग में अब तक दस हजार से अधिक किसानों ने पंजीयन करा लिया है।

इंदौर शहर में 73 स्थानों पर सांची दूध पार्लर खोले जाने पर भी आगे की कार्रवाई शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए गए। कृषि उत्पादन आयुक्त ने इंदौर में सब्जी और मसालों की खेती का क्षेत्रफल बढ़ाने पर भी जोर दिया। बैठक में इंदौर से अपर कलेक्टर अभय बेड़ेकर, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी वंदना शर्मा सहित अन्य जिलों के कलेक्टर, जिला पंचायत, कृषि, उद्यानिकी और पशु पालन विभाग के अधिकारी जुड़े थे।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close