इंदौर। हनीट्रैप के मामले में पुलिस मेडिकल के लिए आरोपित आरती दयाल को लेकर एमवाय अस्पताल पहुंची। मीडिया के सामने उसने कहा कि मैं निर्दोश हूं, मुझसे कोरे काज पर जबरन साइन करवाए जा रहे हैं। आरती ने यह आरोप पलासिया टीआई पर लगाए।

इसके पहले यह बात सामने आई थी कि आराती पुलिस पूछताछ में टूट गई और उसने यह कबूल कर लिया है कि उनके गिरोह ने कई हस्तियों को ब्लैकमेल किया है। आरती ने यह भी कबूला कि हरभजन करोड़ों के ठेके और मोनिका को नौकरी का झांसा दे रहे थे। इसके बाद ही तीन करोड़ रुपए की मांग शुरू की गई थी। इस खुलासे के बाद पुलिस ने हरभजन को कोर्ट में बयान और पूछताछ के लिए नोटिस जारी कर दिया। एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र के अनुसार, आरती दयाल उर्फ आरती सिंह उर्फ ज्योत्सना सिंह और मोनिका यादव उर्फ सीमा सोनी का शुक्रवार को रिमांड समाप्त हो रहा है।

आरती अभी तक बीमारी का बहाना बनाकर पूछताछ में सहयोग नहीं कर रही थी। गुरुवार को एसआईटी सदस्य एसपी साइबर विकास शहवाल, क्राइम ब्रांच एएसपी अमरेंद्रसिंह, सीआईडी निरीक्षक मनोज शर्मा की टीम पूछताछ करने महिला थाने पहुंची। आरती ने पहले आनाकानी की लेकिन जैसे ही उसे पुख्ता सबूत दिखाए, वह टूट गई। उसने स्वीकार कर लिया कि श्वेता जैन के गिरोह से जुड़ कर अधिकारी, नेता व कारोबारियों को ब्लैकमेल कर रही थी। एसएसपी के अनुसार, आरती से कई बैंक खातों की जानकारी मिली है।

आरती और श्वेता के ठिकानों पर छानबीन

उधर पलासिया थाना टीआई शशिकांत चौरसिया मोनिका यादव को लेकर भोपाल पहुंचे और आरती, श्वेता के ठिकानों पर छानबीन की। मोनिका ने उन स्थानों की जानकारी भी दी, जहां दोनों बैठक करती थीं। पुलिस ने आरती के घर से कुछ सामग्री भी जब्त की लेकिन उसका खुलासा नहीं किया।

पूछताछ और बयानों के लिए हरभजन को नोटिस जारी

पुलिस ने फरियादी इंजीनियर हरभजनसिंह को भी नोटिस जारी कर दिया है। बताया जाता है पुलिस मानव तस्करी का केस दर्ज करने के बाद हरभजन से पूछताछ करना चाहती है। एसएसपी ने नोटिस देने की पुष्टि की और कहा कि पुलिस कोर्ट में धारा 164 के तहत बयान करवाना चाहती है।

मोबाइल को डिकोड करने में जुटी एसआईटी

आरती व श्वेता को फोन में कई मैसेज और नंबर कोडवर्ड में मिले हैं। गुरुवार को साइबर एसपी विकास शहवाल और निरीक्षक मनोज शर्मा पलासिया थाने पहुंचे और आरोपितों के फोन को डिकोड करना शुरू किया। सूत्रों के अनुसार, संदेही नामों की जानकारी मिलने पर पूछताछ की जाएगी।

भोपाल के सेक्स रैकेट से जुड़ सकते हैं तार, लिंक तलाशे जा रहे

दो दिन पहले भोपाल में पकड़ाए सेक्स रैकेट से हनीट्रैप गिरोहों के तार जुड़ सकते हैं। भोपाल के कारोबारी ने ब्लैकमेल की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। पुलिस ने दो युवतियों समेत चार को गिरफ्तार किया है। रैकेट का संपर्क दुबई, मुंबई दिल्ली में भी था। एसएसपी के अनुसार, लिंक तलाशे जा रहे हैं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020