लोकेश सोलंकी, इंदौर। नईदुनिया। Madhya Pradesh News तीन दिन पहले डीआरआई द्वारा पकड़ी गई सोने की खेप की जांच में सामने आया है कि सोना अमेरिका से तस्करी कर इंदौर लाया जाता था। जब्त किया गया सोना अमेरिका में उत्पादित और प्रोसेस किया गया है। सोना तस्करी से जुड़े दो और व्यापारियों को भी डीआरआई ने हिरासत में लिया है। इनमें से एक के पास से डेढ़ किलो सोना बरामद हुआ है। इस तरह तस्करों के इस गिरोह से पकड़े गए सोने की कुल मात्रा छह किलो तक पहुंच गई है।

इंदौर डीआरआई की टीम ने रविवार को राजेंद्र नगर क्षेत्र से पुनीत गुप्ता और हेमेंद्र बिरला को पकड़ा था। इनके पास से साढ़े चार किलो सोना बरामद हुआ था। दोनों युवकों ने कबूला था कि वे सराफा के बुलियन कारोबारी राजेश नेमा और सुनील नेमा के लिए सोना नासिक और जलगांव से ला रहे थे।

डीआरआई ने सुनील को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन राजेश फरार हो गया। डीआरआई ने इनकी निशानदेही पर नासिक के व्यापारी अशोक वाघ और जलगांव से किशोर सुराना को पकड़ा है। ये दोनों भी सोना तस्करी से जुड़े हैं। वाघ के पास से डेढ़ किलो सोना बरामद किया गया है। इस गिरोह से जुड़े सभी लोगों के पास से पकड़ाया सोना अमेरिका में प्रोसेस हुआ है।

अमेरिका में सस्ता सोना

ताजा स्थिति में अमेरिका में भारत के मुकाबले सोना प्रति दस ग्राम 6 हजार रुपए सस्ता मिल रहा है। इसका लाभ उठाकर तस्कर वहां से सोना भारत लाते हैं। सबूत मिले हैं कि अमेरिका से बांग्लादेश और फिर पश्चिम बंगाल के रास्ते देश में सोना भेजा जाता है।

पकड़ा गया सोना भी इसी रास्ते से भारत लाया गया था। अमेरिका से आया सोना 99.9 प्रतिशत शुद्धता वाला होता है। आरोपित राजेश इसमें तांबे की मिलावट कर 95.5 प्रतिशत शुद्धता वाला बना देता था। इस तरह मोटा मुनाफा कमाने के साथ टैक्स और ड्यूटी की भी चोरी की जा रही थी। बाजार के कारोबारियों का कहना है कि बुलियन कारोबार के नाम पर तस्करी का सोना खपाने के धंधे में ये कारोबारी छह-सात साल से लगे हुए थे।

मजबूत राजनीतिक रिश्तों के दम पर काम करने का संदेह

आरोपित पुनीत के परिवार के प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन से कनेक्शन जोड़े जाने लगे हैं। पुनीत के पिता जयकिशन गुप्ता के साथ बाला बच्चन की एक तस्वीर वायरल हो गई है। बच्चन पुनीत के घर किसी पारिवारिक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। तस्वीर उसी समय की बताई जा रही है।

शक जताया जा रहा है कि मजबूत राजनीतिक रिश्तों की वजह से ही पुनीत बेखौफ अब तक तस्करी गिरोह से जुड़कर काम कर रहा था। भाजपा ने आरोप लगाया है कि माफिया विरोधी मुहिम चलाने का झूठा प्रचार कर असल में कांग्रेस सरकार माफिया को प्रश्रय दे रही है। भाजपा के मीडिया पैनलिस्ट जयप्रकाश मूलचंदानी ने आरोप लगाया है कि ऐसे तमाम अपराधियों को मंत्री-विधायक संरक्षण देकर बचा रहे हैं। तस्कर के परिवार के साथ संबंधों पर गृहमंत्री को स्थिति साफ करना चाहिए।

Posted By: Nai Dunia News Network