अभिषेक चेंड़के, इंदौर। मेट्रो रेल के 31 किलोमीटर के रुट पर निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, लेकिन मेट्रो का नेटवर्क आसपास के उपनगरों से भी जोड़ा जाएगा। पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके लिए निर्देश दिए थे। बीआरटीएस को भी मेट्रो रूट में शामिल किया गया है। इसे राजीव गांधी चौराहा से आगे आगरा-मुबंई राष्ट्रीय राजमार्ग को भी जोड़ा जाएगा, ताकि महू और पीथमपुर तक यात्रियों को मेट्रो ट्रेन की सौगात मिल सके। मेट्रो प्रोजेक्ट से जुड़े अफसरों का मानना है कि शहर में सबसे ज्यादा यात्री बीआरटीएस रूट पर मिलते है और पीथमपुर तक हजार लोग प्रतिदिन आवाजाही करते है। ऐसे में इस रूट पर मेट्रो ट्रेन ज्यादा उपयोगी साबित होगी।

मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए जब सात साल पहले जब दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन के फिजिबिलिटी सर्वे किया था तो रिपोर्ट में विजय नगर से भंवरकुंआ तक के हिस्से को मेट्रो के लिए उपयोगी माना था, लेकिन तब भोपाल के कुछ अफसरों ने इसे मेट्रो रुट में शामिल न किए जाने का मुद्दा उठाया था, क्योंकि तब बीआरटीएस कारिडोर की शुरुआत हो चुकी थी, लेकिन अब बीआरटीएस पर त्रिस्तीय मार्ग की कार्ययोजना तैयार हो रही है, जिसमें सड़क पर मिक्स ट्रैफिक, पहली मंजिल पर सिटी बस और दूसरी मंजिल पर मेट्रो का ट्रेक बनेगा, लेकिन मेट्रो के स्टापेज बीआरटीएस पर कम रहेंगे, ताकि बीआरटीएस का संचालन प्रभावित न हो। यहां मेट्रो ट्रेन लंबी दूरी तक यात्रा करने वालों के लिए उपयोगी साबित होगी। इस रूट के ट्रैफिक सर्वे के लिए अर्बन मास ट्रांसपोर्ट कंपनी के दल इसी माह इंदौर आएगा।

नेशनल हाइवे पर नहीं आसानी से मिल जाएगी जमीन

मेट्रो के इस रूट के लिए नेशनल हाइवे के मध्य हिस्से को शामिल किया जाएगा, क्योंकि यह मार्ग सीधे पीथमपुर से जुड़ा है। राष्ट्रीय राजमार्ग के डिवाइडर की चौड़ाई चार मीटर से ज्यादा है। यहा पीलर निर्माण कर मेट्रो का संचालन आसानी किया जा सकता है और अतिरिक्त जमीन लेने में भी सरकार को परेशानी नहीं आएगी।

40 हजार लोग रोज करते है अपडाउन

औद्योगिक क्षेत्र होने की वजह से पीथमपुर में नौकरी के लिए इंदौर से 45 हजार से ज्यादा लोग डेली अपडाउन करते है। बायपास पर 45 से ज्यादा उपनगरीय बसें इंदौर से सवा सौ से ज्यादा ट्रेवल वाहन कर्मचारियों को लेकर पीथमपुर जाते हैं, जबकि हजारों लोग अपने निजी वाहनों से भी महू-पीथमपुर तक रोज जाते हैं। भविष्य में पीथमपुर तक मेट्रो रुट बनने से सड़कों पर ट्रैफिक का दबाव कम होगा।

पीथमपुर रूट के सर्वे के लिए आएगी टीम

पीथमपुर तक मेट्रो रूट के सर्वे के लिए इस माह टीम आएगी। बीआरटीएस पर त्रिस्तीय मार्ग पर प्रस्तावित मेट्रो रूट को राजीव गांधी चौराहा से आगे पीथमपुर तक जोड़ने की योजना है। सरकार ने भी इसके लिए निर्देश दिए है।

- शंकर लालवानी, सांसद

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local