इंदौर। महू के शासकीय हाई स्कूल खुर्दी के एक शिक्षक को वहां की प्राथमिक विद्यालय की महिला शिक्षक द्वारा 15 अगस्त को चांटे मारने का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। महिला का आरोप है कि पुरुष शिक्षक ने उससे गलत शब्दों में बात की। उसने पुरुष शिक्षक की कॉलर पकड़ी, उसके बाल खींचे और उसे पैर भी पड़वाए।

'नईदुनिया' ने मामले की पड़ताल की तो सामने आया कि दोनों शिक्षकों के बीच विवाद इसी साल 26 मार्च को रंगपंचमी के अगले दिन हुआ था। उसी समय से नाराज महिला ने 15 अगस्त को अपना गुस्सा सरेआम स्कूल के बाहर सड़क पर निकाला।

किराए से कमरा लेने का पूछा था शिक्षक ने

हाई स्कूल खुर्दी के शिक्षक के मुताबिक उनके मित्र को किराए पर कमरे की जरूरत थी। उन्होंने उक्त महिला शिक्षक जो उनके स्कूल के पास ही स्थित प्राथमिक स्कूल में पढ़ाती है, से रंगपंचमी के अगले दिन फोन कर पूछा था कि आप जहां रहती हैं, उस क्षेत्र में किराए से कमरा मिल जाएगा? इस बात पर वे नाराज हो गई और ऐसा पूछने पर आपत्ति ली। उनकी नाराजगी के कारण मैंने दूसरे दिन उनसे माफी भी मांग ली, लेकिन उन्होंने कहा कि 'मैं बदला लूंगी, छोड़ूगी नहीं।' इसके बाद छह महीने तक हमारे बीच कोई बात नहीं हुई।

15 अगस्त को झंडावंदन के बाद स्कूल के सभी साथी रैली में गए थे। मैं स्कूल का गेट बंद करने के लिए रुका था। जैसे ही मैं रैली में जाने के निकला, महिला शिक्षक स्कूल के दो बच्चों और स्कूल के पास में रहने वाले एक व्यक्ति को साथ लेकर आई। मैं रुका तो वे मुझे कॉलर पकड़कर चांटे मारने लगी। मैं हाथ छुड़ाकर वहां से चला गया।

महिला बोली- उन्हें सुधरने का मौका मिले, नहीं करना कार्रवाई

महिला शिक्षक के मुताबिक मैं जब डाइट में शोध के लिए गई हुई थी, उस दिन उक्त शिक्षक ने मुझे फोन किया और कमरे के बारे में पूछा। मैंने पूछा आपको किराए पर रूम चाहिए? इस पर वे बोले 'मुझे दो घंटे के लिए रूम चाहिए, मुझे अपने पार्टनर के साथ आना है।' वे अपने कुछ साथियों के साथ थे और नशा भी किए हुए थे। इस कारण मुझे काफी गुस्सा आया। मैंने स्कूल के हेडमास्टर को भी शिकायत की थी और कहा था कि उस शिक्षक से माफी मंगवाएं। मैंने उनसे हुई बात का रिकॉर्डेड ऑडियो भी भेजा था। 15 अगस्त को मैं हाई स्कूल के सामने से जा रही थी तो उन्हें देखकर मुझे गुस्सा आ गया। शिक्षक ने माफी मांग ली है। उन्होंने पहली बार गलती की और उन्हें सुधरने का मौका मिलना चाहिए। मैं उन पर कोई कार्रवाई नहीं करना चाहती।

किसी ने नहीं की शिकायत

15 अगस्त को पूरा स्टाफ रैली के लिए गया था, उस समय दोनों शिक्षकों में विवाद हुआ। दोनों में से किसी ने मुझसे कोई शिकायत नहीं की।

-लोकेश कनेडे, प्रभारी प्राचार्य, हाई स्कूल खुर्दी

मामले की करवाएंगे जांच

महिला शिक्षक ने कोई लिखित शिकायत नहीं की। इसम मामले में संकुल प्राचार्य व एक कमेटी गठित कर जांच करवाएंगे और उसके बाद इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।

-राजेंद्र मकवानी, जिला शिक्षा अधिकारी