इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। दो बच्चियों को अगवा कर एक से दुष्कर्म और दूसरी से दुष्कर्म का प्रयास करने वाले आरोपित की शनिवार रात बड़ी बच्ची से शिनाख्त करवाई गई। इस दौरान आरोपित ने पुलिसवालों के सामने ही बच्ची को आंखें दिखाकर डराने की कोशिश की। इस पर बच्ची मां के आंचल में छिप गई और सहमते हुए कहा कि इसी ने छोटी के साथ गंदी हरकत की थी। पुलिस ने आरोपित को रिमांड पर लिया है। उसके घर से कपड़े बरामद किए हैं।

एमजी रोड टीआई राजेंद्रकुमार चतुर्वेदी के मुताबिक आरोपित सोनू पूछताछ के दौरान पुलिस को गुमराह कर रहा था। उसने चौकीदार दंपती के घर आने से इंकार कर दिया। पुष्टि के लिए देर रात एमवाय अस्पताल ले जाया गया। आरोपित को देख बच्ची सहम गई। इस पर पिता ने उसे गोद में लेते हुए उसे बिना घबराए पूरी बात बताने को कहा। इस पर बच्ची ने डरते हुए घटनाक्रम बताया। टीआई के मुताबिक आरोपित जेल रोड स्थित एक मार्केट में चौकीदार था। उसने पूछताछ में कबूला कि वह बच्ची की मां पर बुरी नीयत रखता था। पिछले रविवार को वह अपने जीजा के साथ हाट में गया था। बच्ची की मां सब्जी खरीद रही थी। उसने महिला (बच्ची की मां) से रिश्तेदारी बताई और मोबाइल नंबर ले लिए। महिला से पति के आने-जाने का टाइम भी पता कर लिया।

दो बार रैकी करने आया, दरवाजा खोलने की तरकीब देखी

महिला ने पुलिस को बताया कि उस वक्त उसके साथ दोनों बच्चियां भी थीं। आरोपित ने मदद के बहाने उससे एक बच्ची ले ली। पिछले सोमवार को जीजा आनंद के साथ घर आ गया। कुछ देर बातचीत की और चला गया। शुक्रवार सुबह फिर घर आ गया। दरअसल, महिला ने बताया था कि पति 9 बजे काम पर चला जाता है, लेकिन उस दिन महिला का पति घर पर ही था। आरोपित करीब एक घंटे तक बतियाता रहा। मेहमान समझकर चाय भी पिलाई। कई बार जाने का बोला, लेकिन वह नहीं उठा। महिला नहाने गई तो उसने देख लिया कि कैसे झोपड़ी का दरवाजा बंद किया जाता है। शनिवार रात वह दबे पांव घर पहुंचा और ठीक उसी तरह दरवाजा खोल लिया।

मां के करवट बदलते ही मासूम को उठा ले गया

प्रारंभिक पूछताछ में आरोपित अपहरण और दुष्कर्म से इंकार करता रहा। पुलिस ने करीब 25 सीसीटीवी कैमरों से फुटेज निकाले। शनिवार की दिनचर्या के बारे में पूछा। उसने बताया कि शाम को कमरे पर शराब पी थी। इसके बाद श्रीकृष्ण टॉकीज के पास रहने वाली बहन के यहां खाना खाया और कमरे पर चला गया। पुलिस ने एमजी रोड थाने के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो करीब डेढ़ बजे थाने के सामने से जाता हुआ दिखाई दिया। फुटेज दिखाने पर वह टूट गया और कहा कि वह चौकीदार के घर गया था। झोपड़ी का दरवाजा खोला तो बच्ची की मां को करवट लेते देखा। कुछ देर वह बैठा रहा। जैसे ही महिला की नींद लगी बच्चियों को उठाकर ले गया।