Mobile Tower Radiation : इंदौर। शहर की कृषि विहार कॉलोनी के हर तीसरे घर में कैंसर का मरीज होने का मामला सामने आने के बाद शनिवार को इस कॉलोनी से लगे बख्तावरराम नगर में मोबाइल टावर के रेडिएशन (Mobile Tower Radiation) की जांच की गई। जांच में पाया गया कि इस टावर से भारत सरकार की तय गाइडलाइन से अधिक हानिकारक विकिरण तरंगें निकल रही हैं। भारतीय विकिरण संरक्षण परिषद (Radiation Protection Council of India) के सदस्य और विकिरण सुरक्षा अधिकारी रेडियोलॉजिस्ट शिवाकांत वाजपेयी ने शनिवार को रेडिएशन मीटर ( Radiation Meter ) से विकिरण की जांच की। कलेक्टर की जनसुनवाई में शिकायत के बाद भी प्रशासन का ध्यान न जाने पर कृषि विहार के रहवासियों ने खुद ही रेडियोलॉजिस्ट व परिषद के सदस्य वाजपेयी से संपर्क किया। शनिवार को उन्होंने कृषि विहार में रहवासियों को हानिकारक विकिरण के बारे में जागरूक किया। साथ ही बख्तावरराम नगर में लगे मोबाइल टावर की जांच की तो पाया कि रेडिएशन मीटर टावर की तरंगों को ओवरलोड बता रहा था, जो मानव स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक हानिकारक है।

वाजपेयी के मुताबिक गाइडलाइन के मुताबिक विकिरण की तय सीमा 450 मिलीवॉट/एम2 लिमिट है, लेकिन इस क्षेत्र में 700 से 1000 मिलीवॉट विकिरण पाया गया है। इस रेडिएशन की मात्रा जनजीवन के लिए अत्यधिक खतरनाक है। कृषि विहार के रहवासी संजय खादीवाला ने बताया कि जनसुनवाई में शिकायत के बावजूद प्रशासन हमारी समस्या पर ध्यान नहीं दे रहा है। जांच के दौरान हमने स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट को भी अपनी समस्या बताई और हानिकारक विकिरण की जानकारी दी।

Posted By: Prashant Pandey

fantasy cricket
fantasy cricket