MP Education Department : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सरकारी स्कूलों में आमतौर पर खेलों पर विशेष ध्यान नहीं दिया जाता है, लेकिन शिक्षा विभाग अब खेलों के प्रति गंभीर हो रहा है। सभी सरकारी स्कूलों में खेल शिक्षक नहीं हैं, इस कमी को पूरा करने के लिए प्रदेश के प्रत्येक सरकारी स्कूल से एक-एक शिक्षक को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इंदौर संभाग में करीब 500 शिक्षक हैं, जिन्हें प्रशिक्षण दिया जाना है। मगर अब तक जगह तय नहीं हो सकी है।

खेलों में युवाओं का रुझान बढ़ाने और उन्हें पर्याप्त अवसर देने के लिए यह प्रशिक्षण कार्यक्रम किया जा रहा है। पांच दिन में खेल गतिविधियां संचालित करने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में छिपी प्रतिभाओं को भी मंच मिल सकेगा। सोमवार को इंदौर संभाग के नए संयुक्त संचालक अनिल वर्मा ने आमद दी और उनकी अगुआई में शिक्षकों के प्रशिक्षण को लेकर मंथन हुआ। शासकीय बाल विनय मंदिर में शिविर कराने को लेकर प्रारंभिक सहमति बनी है। मगर सुविधाओं की कमी को देखते हुए एमरल्ड हाइट्स पर आयोजन कराने का प्रयास किया जा रहा है। 18 अप्रैल से शिविर प्रारंभ करना है। इंदौर संभाग ने 2 मई से 15 जून के बीच शिविर कराने के लिए मुख्यालय को निवेदन किया है।

छोटी-छोटी बैच में देंगे प्रशिक्षण - शिक्षा विभाग के सहायक संचालक, खेल हेमंत वर्मा का कहना है कि इंदौर में संभाग के करीब 500 शिक्षकों को खेलों की आधारभूत बातों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे वे अपने स्कूलों में खेल गतिविधियां संचालित कर सकें। अधिक संख्या होने से छोटी-छोटी बैच में प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण शिविर पांच दिन का रहेगा। इसमें 14 खेलों की जानकारी दी जाएगी।

रस्सीकूद का भी प्रशिक्षण - भारत सरकार से मान्यता प्राप्त 14 खेलों का पांच दिवसीय प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसमें रस्सी कूद (रोप स्किपिंग), कबड्डी, खो-खो, फुटबाल, हाकी, टेबल टेनिस, बैडमिंटन, ताइक्वांडो, कराते, जूडो, कुश्ती, बास्केटबाल, वॉलीबाल, एथलेटिक्स शामिल हैं।

किस संभाग में कितने शिक्षकों को मिलेगा प्रशिक्षण :

प्रशिक्षण की अवधि - शासन के निर्देशानुसार हर संभाग को अपने जिलों के शिक्षकों का प्रशिक्षण 18 अप्रैल से 15 जून के बीच पूरा करना है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close