MP LIVE Dussehra News रविवार। मध्‍य प्रदेश में कोरोना काल के कारण इस बार विजयादशमी यानि दशहरा पर्व पर लोगों का उत्‍साह कम ही रहा। संक्रमण काल में दिशानिर्देशों और कोरोना के डर से लोगों ने औपचारिकता ही निभाई। शहरी और ग्रामीण अंचलों में भी रावण के पुतलों का दहन कार्यक्रम औपचारिक बनकर रह गया।

चंद सेकंड में ही जल गया 21 फीट का रावण

जैसे-जैसे शाम ढलने लगी लोगों का हुजूम दशहरा मैदान की तरफ बढ़ने लगा। शाम सात बजे तक सैकड़ों लोग मैदान में पहुंच चुके थे। जैसे ही जलता हुआ तीर रावण के पेट में लगा वह धू-धू कर जलने लगा। लोगों ने आस्था के साथ जय श्रीराम का जयकारा लगाया और फिर शुरू हो गया एक-दूसरे को बधाई देने का सिलसिला। इस बार दशहरा मैदान पर सिर्फ 21 फीट लंबे रावण का दहन हुआ। हर बार की तरह इस बार लंका भी नहीं बनाई गई थी। बावजूद इसके लोगों का उत्साह हर बार की तरह ही रहा। रावण दहन के बाद घरों को लौटती भीड़ के कारण सड़क पर ट्रैफिक जाम की स्थिति भी बनी। अन्नपूर्णा थाना मार्ग पर वाहन पार्किंग की व्यवस्था की गई थी। पुलिसकर्मी वाहन चालकों को नियंत्रित करने की कोशिश करते रहे।

तिलक नगर : दशानन का दहन देखने नहीं आए ज्यादा लोग

हर साल की तरह इस साल भी तिलक नगर स्कूल मैदान में रविवार शाम रावण दहन संपन्न हुआ। दहन का समय शाम सात बजे था, लेकिन 7.50 बजे रावण दहन किया गया। मैदान में हर साल की तुलना में 10 प्रतिशत लोग भी नहीं आए थे। ज्यादातर महिला-पुरुष बच्चों को लेकर आए थे। दहन से पहले कुछ आतिशबाजी की गई, जिसका मौजूद लोगों ने आनंद लिया। आयोजक मीत कश्यप ने बताया कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर मैदान में आने वाले हर नागरिक के हाथ सैनिटाइज करवाए गए और लगातार लोगों से दो गज की शारीरिक दूरी रखने का आग्रह किया गया। भीड़ ज्यादा नहीं थी, इसलिए कहीं कोई समस्या नहीं हुई। परंपरा को निभाने के लिए बड़े के बजाय छोटे आकार के रावण का दहन किया गया। इस बार आयोजन समिति ने 11 फीट ऊंचे रावण का दहन किया। एकता सहयोग समिति ने इंदौर के उषागंज छावनी में 21 फीट के कटआउट का रावण बनाया जिसका 7 बजे दहन किया गया।

कुछ सेकंड में जलकर खाक हुआ रावण का दंभ

विजयनगर रावण दहन उत्सव समिति द्वारा विजयनगर चौराहा पर कोरोना रूपी रावण का दहन किया। कुछ सेकंड में 21 फिट का रावण का दंभ जलकर खाक हो गया। रावण दहन देखने पिछले साल के मुकाबले 75 फीसदी से कम लोग पहुचे। इस दौरान समिति के सदस्य लोगो को मास्क वितरित कर किये। साथ ही सेनेटाइजेशन की व्यवस्था थी। मैदान में शारीरिक दूरी के लिए मार्किंग की गई। लिए बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंचे थे। आयोजकों ने लोगों को बैठने लिए शारीरिक दूरी के साथ कुर्सीया लगाई थी। रावण दहन से पहले रंगारंग आतिशबाजी भी की गई।

दशहरा मैदान पर राजपरिवार ने किया शमी पूजन

होलकरकालीन परंपरा को निभाते हुए बुराई पर अच्छाई की जीत के पर्व पर दशहरा मैदान पर राजपरिवार ने शमी पूजन किया गया। राजपरिवार के सदस्य पारंपरिक होलकर पगड़ी और वेषभूषा में मौजूद थे। राजवंश के लिए आरक्षित ओटले पर नवग्रह मंडल का पूजन पं. रामगोपाल शर्मा के आचार्यत्व में विधि-विधान से संपन्न हुआ। पूजा के बाद आरती की गई, जिसके बाद हरे कद्दू की प्रतीकात्मक रूप से बलि दी गई।

देवी अहिल्याबाई होलकर गादी रक्षण समिति के तत्वावधान में शमी पूजन से पहले सरदार प्रतापसिंह राव होलकर की आड़ा बाजार स्थित हवेली पर तली आरती व अखंड ज्योति पूजन किया गया। इसके बाद राजबाड़ा स्थित मल्हारी मार्तण्ड मंदिर पर तली पूजन हुआ। शमी पूजन सरदार उदयसिंह होलकर ने किया। दशहरा मैदान पर इस साल कोविड के कारण पालकी यात्रा निरस्त की गई है।

ग्वालियर में राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने महाराज वाडा गोरखी स्थित देवघर पहुंच कर दशहरे के अवसर पर शस्त्र पूजन किया। इस मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी राजसी वेशभूषा में थे । परंपरा अनुसार पूजन करने के बाद उन्होंने गरीबों के लिए उपहार भी बांटे।

नीमच में दशहरा मैदान पर हुआ रावण के पुतले का दहन। समाजसेवी,कलेक्टर व अन्य लोग थे मौजूद। आम जनता बेहद सीमित संख्या में पहुंची। खरगोन के मेला मैदान पर रावण के पुतले का दहन किया गया। बुरहानपुर में रेणुका माता मंदिर परिसर में रावण के पुतले का दहन किया गया।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस