इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि), Naidunia Sehat Shala। मोटापा कई रोगों की वजह बनता है। सही योगाभ्यास के जरिए मोटापे को न केवल दूर रखा जा सकता है बल्कि कम भी किया जा सकता है। मोटापा कम करने का एक माध्यम यह भी है कि हम जो भी खाएं उससे मिलने वाली कैलोरी सही मात्रा में बर्न की जाए। वजन बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं पर सबसे पहले हमें अपने भोजन पर ध्यान देना होगा कि हम किस तरह का भोजन ले रहे हैं। नईदुनिया सेहतशाला में मंगलवार के सत्र में मोटापा और योग पर चर्चा हुई। सेहतशाला के इस सत्र में डा. हेमंत शर्मा ने बताया कि सुव्यवस्थित भोजन, मानसिक शांति, नियमित दिनचर्या, आराम के अलावा आसनों का अभ्यास मोटापे पर कारगर रहता है। सूर्य नमस्कार, पश्चिमोत्तानासन, अर्द्धमत्स्येंद्रासन, मंडूकासन व प्राणायाम के अभ्यास से मोटापे को नियंत्रित कर किया जा सकता है।

पश्चिमोत्तानासन करने के लिए दोनों पैरों को सामने फैलाकर बैठ जाएं। दोनों हाथों को कोहनी से सीधा रखते हुए उुपर उठाएं। श्वास छोड़ते हुए हाथ को आगे झुकाते हुए पैर के अंगूठे पकड़ लें। सिर को घुटने के समीप लाने का प्रयास करें। अंतिम स्थिति में 10 से 15 श्वास तक रुकें। मधुमेह और मोटापे के लिए यह महत्वपूर्ण आसन है। कमर दर्द, स्पांडिलाइटिस, स्लिप डिस्क, अल्सर, गर्दन दर्द है तो यह आसन नहीं करें या योग प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में ही करें। आयोजन के सहयोगी गोविंद मसाले, अमलतास इंडिया, पटेल मोटर्स, जियो रियलिटीज और सीवी रमन यूनिवर्सिटी है।

फोटो कांटेस्ट

नईदुनिया सेहतशाला में बुधवार से शनिवार तक प्रतिदिन एक योग फोटो कांटेस्ट आयोजित किया जा रहा है। कांटेस्ट की अधिक जानकारी नईदुनिया सेहतशाला फेसबुक पेज पर बुधवार के योग सत्र के दौरान डा. हेमंत शर्मा द्वारा दी जाएगी। नियमित योगाभ्यास करने वाले पाठकों व दर्शकों के लिए यह कांटेस्ट रुचिकर होगा।

सवाल-जवाब

यूरिन इंफेक्शन और बार-बार पेशाब आने की समस्या का निदान योग से संभव है क्या? -ओमप्रकाश मोदी, इंदौर

- इंफेक्शन है तो चिकित्सकीय परामर्श जरूर लें। योग में अश्विनी मुद्रा, वज्रोली मुद्रा, शलभासन, सरल मत्स्यासन, जानुशिरासन किए जा सकते हैं।

क्या योग में आसन का कोई क्रम होता है? -अनूप जैन, इंदौर

- आयुष मंत्रालय द्वारा बनाए गए योग के प्रोटोकाल के तहत सूक्ष्म व्यायाम, रीढ़ की हड्डी का संचालन, खड़े होकर, बैठकर, पेट के बल और पीठ के बल किए जाने वाले आसन करना चाहिए। बीमारी के अनुसार आसनों का क्रम बदल सकते हैं।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local