इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि), Indore News। समाज में शिक्षा का प्रचार-प्रसार बढ़ाने की जरूरत है। पारंपरिक के अलावा युवाओं को इंडस्ट्री की जरूरत को समझते हुए पाठ्यक्रमों का चुनना होगा। तभी युवाओं को आगे बढ़ने का अवसर मिलेंगे। युवा पीढ़ी शिक्षित होने के बाद ही समाज का चौतरफा विकास संभव है। यही वजह है कि समाज के प्रत्येक व्यक्ति को अपना योगदान देना चाहिए।

यह बात मुख्य अतिथि पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी संतोष टेगौर ने कही। रविवार को भगवान बिरसा मुंडा की जयंति एवं जनजाति गौरव दिवस पर आयोजित कार्यक्रम का समापन किया। समारोह देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के कंप्यूटर साइंस विभाग के सभागृह में रखा गया। विशेष अतिथि जनजाति कल्याण विभाग के संभागीय उपायुक्त गणेश भाभर ने अपने विचार रखे और कहा कि समाज और महापुरुषों की जीवनी व प्रसंगों को पाठ्यक्रम में शामिल करना होगा। तभी युवा पीढ़ी अपने समाज को समझ सकेंगी। इस काम में समाज के पदाधिकारियों को आगे आने की जरूरत है। कार्यक्रम में जनजाति विकास मंच अध्यक्ष गोविंद भूरिया, संयोजक शंकरलाल कटारिया भी मौजूद थे। पूंजालाल निनामा ने बताया कि गौरव दिवस के रूप मे 8 से 22 नवंबर के बीच महिलाओं और युवाओं के लिए कई प्रतियोगिता हुई।

उन्होंने बताया कि प्रदेशभर से मुंडा समाज के 62 शाखाओं से 104 प्रतिनिधि आए थे। प्रत्येक व्यक्ति ने अपने-अपने सुझाव दिए है। अब राज्य स्तरीय कमेटी इन पर विचार-विमर्श कर प्रस्ताव बनाएंगी। निगामा का कहना है कि बच्चों और युवा पीढ़ी को शिक्षित बनाने के लिए अलग से संगठन बनाया जाएगा, जो उनकी शिक्षा के लिए परिवार की मदद करेंगा।

Posted By: sameer.deshpande@naidunia.com

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस