इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। गुजरात और महाराष्ट्र की फैक्ट्रियों में तैयार अमानक पालीथिन और सिंगल यूज प्लास्टिक को इंदौर में खपाया जा रहा है। नगर निगम अभी तक अमानक पालीथिन के कई विक्रेताओं और भंडारकों पर छापा मारकर सामग्री जब्त कर चुका है। लाखों रुपये के स्पाट फाइन भी किए गए हैं। नईदुनिया के 'सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक' के अभियान ने असर दिखाया है और कलेक्टर मनीष सिंह ने निगम अफसरों को सिंगल यूज प्लास्टिक के विक्रेता और भंडारकों के खिलाफ एफआइआर करवाने के निर्देश दिए हैं। जिला प्रशासन ऐसे लोगों पर रासुका के तहत कार्रवाई भी करेगा। शहर में कई बाजारों में धड़ल्ले से प्लास्टिक के गिलास, प्लास्टिक फिल्म वाले कागज के दोने, चाय के कप आदि बिक रहे हैं।

डिस्पोजेबल भी सिंगल यूज उत्पाद में आता है, लेकिन इस पर रोक लगाने में भी निगम व जिला प्रशासन अब तक नाकाम रहा है। इनकी आड़ में अमानक स्तर के प्लास्टिक के गिलास और कप भी बिक रहे हैं। जिला प्रशासन व मप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने अभी तक इनके निर्माताओं पर रोक लगाने की कोई कार्रवाई नहीं की है। डिस्पोजेबल की बिक्री करने वाली दुकानों से कई लोगों का रोजगार जुड़ा है। इस वजह से जिला प्रशासन सख्ती नहीं कर पा रहा है। इस तरह का कचरा निगम के सूखे कचरे के बोझ को बढ़ा रहा है।

मुझे जानकारी मिली है कि दूसरे शहरों से ट्रांसपोर्टर के माध्यम से सिंगल यूज प्लास्टिक लाकर इंदौर में खपाया जा रहा है। मैंने निगम के अफसरों को निर्देश दिए हैं कि जिनके पास सिंगल यूज प्लास्टिक का भंडार मिले, उन पर निगम के अफसर एफआइआर करवाएं। ऐसे लोग आम जनता के जीवन के साथ खिलावाड़ कर रहे हैं। इस तरह के प्लास्टिक से कैंसर जैसी बीमारियां होती हैं। ऐसे समाज विरोधी लोगों पर हम रासुका के तहत भी कार्रवाई करेंगे। डिस्पोजेबल पर चरणबद्ध तरीके से कार्रवाई करेंगे। - मनीष सिंह, कलेक्टर

सिंगल यूज प्लास्टिक के विक्रेताओं व भंडारकों पर निगम लगातार जब्ती व स्पाट फाइन की कार्रवाई कर रहा है। मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जिला प्रशासन व निगम की संयुक्त टीम जल्द ही डिस्पोजेबल व सिंगल यूज प्लास्टिक निर्माताओं पर कार्रवाई करेगी। - डा. अखिलेश उपाध्याय, मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी, नगर निगम

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close