अमित जलधारी, इंदौर Omkareshwar Railway Station। महू-सनावद छोटी लाइन पर बना ओंकारेश्वर रेेलवे स्टेशन बड़ी लाइन के लिए छोटा पड़ने लगा है। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों ने यह तो तय कर दिया कि नया रेलवे स्टेशन बनाया जाएगा, लेकिन स्टेशन कहां बनेगा, इसका फैसला नहीं हो पा रहा है। वर्तमान ओंकारेश्वर रोड स्टेशन मोरटक्का के पास बना है। उसके एक तरफ नर्मदा नदी है, तो आगे चार-पांच किलोमीटर दूरी पर सनावद रेलवे स्टेशन है। मौजूदा स्टेशन पर इतनी जगह नहीं है कि वहां ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के हिसाब से बड़ा रेलवे स्टेशन बनाया जाए। इन्हीं सब उलझनों के बीच रेल अधिकारी अलग-अलग विकल्पों पर विचार कर रहे हैं।

ओंकारेश्वर रोड रेलवे स्टेशन से ही एक सड़क ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग की तरफ जाती है। अभी तो इस रूट पर यात्री ट्रेनों की आवाजाही बंद है और यात्री सड़क मार्ग से ही ओंकारेश्वर जाते हैं, लेकिन भविष्य में जब भी महू-खंडवा के बीच बड़ी लाइन बिछेगी, तो इस रूट पर यात्री ट्रेनों की संख्या काफी बढ़ेगी। इंदौर-महू-खंडवा-अकोला बड़ी लाइन न केवल उत्तर सेे दक्षिण भारत को जोड़ने वाला महत्वपूर्ण रेल मार्ग होगा, बल्कि ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग आनेे-जाने वाले श्रद्धालु ओंकारेश्वर रोड का उपयोग ही करेंगे।

ये हैं तीन विकल्प और दिक्कतें

1. पहला विकल्प यह है कि मौजूदा स्टेशन से दो-ढाई किलोमीटर दूर सनावद की तरफ नया रेलवे स्टेशन बनाया जाए। इसमें परेशानी यह है कि नई जगह रेेलवे को स्टेशन निर्माण के लिए निजी जमीनें अधिग्रहित करनी होंगी। दूसरी बड़ी परेशानी यह है कि वर्तमान स्टेशन से चार-पांच किलोमीटर दूर ही सनावद रेलवे स्टेशन है। यदि सनावद के पास नया स्टेशन बनाया जाता है, तो दो-ढाई किमी की दूरी पर दो बड़े स्टेशन हो जाएंगे।

2. दूसरा विकल्प यह है कि वर्तमान स्टेशन को यथावत रखते हुए उसी का विकास किया जाए। परेशानी यह है कि मौजूदा ओंकारेश्वर रोड स्टेशन के एक ओर इंदौर-इच्छापुर नेशनल हाईवे है, तो दूसरी तरफ रेेलवे के पास स्टेशन विस्तार के लिए खुद की जमीन नहीं है। आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि मौजूदा स्टेशन पर ज्यादा से ज्यादा एक और लूप लाइन बिछाई जा सकती है। पर ज्योतिर्लिंग की गरिमा के अनुरूप भव्य स्टेशन वहां नहीं बनाया जा सकता।

3. तीसरा विकल्प यह है कि वर्तमान स्टेशन को यथावत रखते हुए उसे एक सामान्य क्रासिंग स्टेशन ही बनाया जाए और सनावद स्टेशन के साथ ओंकारेश्वर रोड स्टेशन का नाम जोड़ दिया जाए। वहां रेलवे के पास विकास के लिए जमीन भी उपलब्ध है। बड़ी लाइन प्रोजेक्ट के अंतर्गत सनावद स्टेशन को रेेलवे ने नया जरूर बनाया है, लेकिन अफसरों का वहां और विकास की संभावना दिख रही है।


मौजूदा स्टेशन पर इतनी जगह नहीं कि वहां सभी सुविधाएं जुटाई जा सकें

अब तक ओंकारेश्वर रोड रेलवे स्टेशन को लेकर निर्णय नहीं हो पाया है, लेकिन अब गेज कन्वर्जन प्रोजेक्ट के टेंडर फाइनल करने की प्रक्रिया हो रही है। उम्मीद है कि जल्द स्टेशन को लेकर फैसला हो जाएगा। मौजूदा स्टेशन पर जगह की कमी के कारण वे सुविधाएं नहीं जुटाई जा सकती, जो एक अच्छे स्टेशन में होना चाहिए। इसलिए अलग-अलग विकल्पों पर विचार हो रहा है। मौजूदा स्टेशन को सामान्य क्रासिंग स्टेशन के रूप में यथावत रखने की योजना है।

- विनीत गुप्ता, मंडल रेल प्रबंधक, रतलाम

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local