देवेंद्र मीणा, इंदौर (नईदुनिया)। स्वच्छता में देश में सिरमौर इंदौर को अब यातायात प्रबंधन के क्षेत्र में भी पहले स्थान पर लाना अधिकारियों की प्राथमिकता है। ऐसे में बाहर से इंदौर आने वाले वाहन चालकों को भी यहां सलीके से गाड़ी चलानी होगी और यातायात नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। उल्लंघन करने पर अब उनके पते पर ई-चालान भेजकर जुर्माना वसूला जाएगा।

प्रदेश के अन्य जिले व दूसरे प्रदेश के वाहन चालक भी इंदौर की सड़कों पर कई बार नियमों का उल्लंघन करते हैं, लेकिन उनके पते बाहर के होने से ई-चालान राशि की वसूली नहीं हो पाती है। इन सब समस्याओं से निपटने के लिए अधिकारियों ने ई-चालान तामील करने का काम निजी कोरियर कंपनी को देने का प्रस्ताव बनाकर आयुक्त हरिनारायणाचारी मिश्र को भेजा है। अधिकारियों का कहना है कि स्वीकृति मिलते ही टेंडर जारी कर काम शुरू कर दिया जाएगा।

यह होगा बदलाव - निजी कोरियर कंपनी नियम तोड़ने वाले संबंधित वाहन चालक के घर ई-चालान की दो प्रतियां लेकर जाएगी। एक प्रति उसको देगी व दूसरी पर हस्ताक्षर करवाकर यातायात विभाग को सौंपेगी। इतना ही नहीं, संबंधित वाहन चालक के घर की जीपीएस लोकेशन व गाड़ी नंबर की जानकारी भी कोरियर कंपनी का कर्मचारी विभाग को वाट्सएप के जरिए शेयर करेगा और इसका रिकार्ड रखा जाएगा। अधिकतम पंद्रह दिन में यदि वाहन चालक ने जुर्माना जमा नहीं किया तो जीपीएस लोकेशन के जरिए यातायात विभाग का अमला सीधे उसके घर पहुंचेगा और राशि वसूलेगा।

अभी एक चालान पर 17 रुपये देता है विभाग - वर्तमान में वाहन चालकों के घर ई-चालान डाक विभाग के माध्यम से पहुंचाए जाते हैं। इसके लिए यातायात विभाग प्रति चालान 17 रुपये का भुगतान डाक विभाग को करता है। राशि कम होने का हवाला देकर डाक विभाग ने जिले के ग्रामीण क्षेत्र में ही ई-चालान लोगों के पते पर पहुंचाने में हाथ खड़े कर दिए।

स्वीकृति मिलते ही करेंगे लागू - यातायात प्रबंधन उपायुक्त महेशचंद जैन का कहना है कि ई-चालान की तामीली के बाद पांच प्रतिशत ही समन शुल्क जमा हो रहा था। पिछले कुछ दिनों से चौराहे पर जांच के दौरान नियम तोड़ते पाए जाने वाले वाहन चालकों से लंबित ई-चालान की राशि भी लगातार जमा करवाई गई है। इसके बाद आंकड़ा 45 प्रतिशत पर पहुंच गया है। अब निजी कोरियर कंपनी के माध्यम से ई-चालान घर तक पहुंचाने की कवायद है। आयुक्त से स्वीकृति मिलते ही इसे लागू कर देंगे।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close