Panchayat Election : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर जिले में हो रहे पंचायत चुनाव के दौरान लापरवाही बरतने वाले और तय जिम्मेदारी से जी चुराने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से कार्रवाई की जा रही है। ऐसी ही कार्रवाई श्रम निरीक्षक अविनाश अंगारे को निलंबित करके की गई। पंचायत निर्वाचन के दौरान अपने कर्तव्यों के प्रति लापरवाही बरतने पर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी मनीष सिंह ने रंगारे को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। रंगारे सहायक श्रमायुक्त कार्यालय में पदस्थ हैं।

दरअसल, श्रम निरीक्षक रंगारे को सेक्टर अधिकारी के रूप में जनपद पंचायत देपालपुर में तैनात किया गया था। देपालपुर जनपद पंचायत क्षेत्र में चुनाव के रिटर्निंग अधिकारी ने बताया था कि श्रम निरीक्षक रंगारे 24 जून को मतदान सामग्री वितरण स्थल शहीद भागीरथ सिलावट महाविद्यालय देपालपुर पर समय पर उपस्थित नहीं हुए। उन्हें उपस्थिति के लिए व्यक्तिगत रूप से दो बार दूरभाष पर सूचना भी दी गई थी। इसके बाद भी वे दो घंटे विलंब से उपस्थित हुए और कार्य करने की स्थिति में नहीं थे। रंगारे का उक्त कृत्य निर्वाचन जैसे राष्ट्रीय महत्व के कार्य में लापरवाही के रूप में माना गया। कलेक्टर सिंह ने तत्काल प्रभाव से रंगारे को निलंबित किया है। विभागीय जांच के लिए उन्हें कारण बताओ सूचना पत्र भी दिया गया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय श्रमायुक्त कार्यालय इंदौर रहेगा।

314 ग्राम पंचायतों में हुआ चुनाव - उल्लेखनीय है कि इंदौर जिले की 314 ग्राम पंचायतों में सरपंच, पंच, जिला पंचायत सदस्य और जनपद पंचायत सदस्य के चुनाव के लिए शनिवार को मतदान हुआ। चुनाव कार्य के लिए पूरे जिले के ग्रामीण क्षेत्र के 1217 मतदान केंद्रों पर मतदान दल भेजे गए थे। मतदान की प्रक्रिया में लगभग छह हजार से अधिक अधिकारी व कर्मचारियों की जरूरत पड़ी। कई कर्मचारियों ने उत्साह से अपनी ड्यूटी की, जबकि कुछ अधिकारी व कर्मचारी ऐसे भी रहे जो अपनी ड्यूटी से बचते नजर आए।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close