इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पातालपानी कालाकुंड हेरिटेज ट्रैक पर यात्रियों को अगले माह से भाप इंजन की छुक-छुक की आवाज सुनाई देगी। हेरिटेज लाइन पर आने वाले भाप इंजन के रखरखाव का काम त्रिचुरापल्ली में लगभग पूरा हो गया है। इसे इस सप्ताह वहां से दिल्ली रवाना कर दिया जाएगा। यहां से दो दिन की यात्रा कर इंदौर आएगा। इसके साथ ही यात्रियों की मांग को देखते हुए हेरिटेज ट्रेन में एक कोच और बढ़ाया जा रहा है। मंडल ने कोच बनाने का काम शुरू कर दिया है। इसके साथ ही सभी कोचों में घोषणाएं करने की व्यवस्था की जाएगी, जिससे स्पेशल कोच के अलावा सामान्य कोच में भी स्टेशन आने की जानकारी और ट्रैक के इतिहास की जानकारी पर्यटकों को मिल सके।

साथ ही रेस्ट हाउस की बुकिंग इस माह के अंत से शुरू हो जाएगी। इन सुविधाओं को शुरू करने के लिए डीआरएम आरएन सुनकर ने रविवार को दूसरी बार ट्रैक का निरीक्षण किया। उन्होंने कालाकुंड में पर्यटकों को स्पेशल रेस्ट हाउस कोच शुरू करने की अनुमति दे दी है। इस ट्रैक पर शनिवार व रविवार को सामान्य दिनों की अपेक्षा अधिक यात्री रेलवे को मिल रहे हैं। अधिकारियों के अनुसार अच्छी बारिश होने व झरने की शुरुआत होने की वजह से कई बार तो ये स्थिति हो रही है कि अधिक यात्री होने से दो से तीन दिन बाद की बुकिंग करानी पड़ रही है।

25 दिसंबर से पश्चिम रेलवे की प्रतिदिन चलने वाली पहली हेरिटेज ट्रेन की शुरुआत हुई थी। गर्मी व पर्यटकों की कम संख्या को देखते हुए अप्रैल में इसे सप्ताह में एक बार चलाने का निर्णय लिया गया था। इसके बाद जून में इसे नियमित कर दिया गया। डीआरएम ने बताया कि रेस्ट हाउस और भाप के इंजन से हेरिटेज ट्रेन चलाने की सुविधा जल्दी ही यात्रियों को मिलेगी। इसके लिए हमारे प्रयास जारी हैं।

आठ महीने बाद शुरू हो सकेंगे कोच

रेस्ट हाउस कोच हेरिटेज ट्रेन के उद्याटन से पहले ही तैयार कर लिए थे। दिसंबर में ट्रेन चली थी, इसके बाद इन रेस्ट हाउस को शुरू करने में कई बाधाएं आईं। डीआरएम ने इस बार फैसला कर लिया है कि इसे अगले महीने से शुरू कर दिया जाएगा। इसमें पर्यटक रात में जंगल में रुकने का आनंद ले सकते हैं।

रेस्ट हाउस के लिए चुकानी होगी अधिक राशि

रेलवे यात्रियों को हेरिटेज ट्रैक पर रेस्ट हाउस से लेकर ट्रेन के कोच में रात बिताने की सुविधा अगस्त से शुरू हो जाएगी लेकिन यात्रियों को तय राशि से अधिक का भुगतान करना होगा। रेलवे ने डिब्बे में रात बिताने के लिए प्रति यात्री 5100 रुपए तो रेस्ट हाउस का प्रति यात्री 1100 से लेकर 2100 रुपए तक किराया तय करने का मन बनाया है। फिलहाल इस पर अंतिम निर्णय होना है। ट्रेन की शुरुआत के समय रेस्ट हाउस कोच का किराया 500 रुपए और रेलवे के रेस्ट हाउस में रुकने का 50 से 100 रुपए तय हुआ था।