Pitru Paksha 2021: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पितरों के पूजन का पर्व पितृ पक्ष यानि श्राद्ध पक्ष 20 सितंबर से शुरू होगा। इस वर्ष षष्ठी तिथि दो दिन रहने से 16 दिनी श्राद्ध पक्ष 17 दिन का होगा। इस मौके पर पितरों का पूजन विधि-विधान से किया जाएगा। शहर में कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए विभिन्न स्थानों पर सामूहिक तर्पण के आयोजन भी होंगे। इसमें स्वतंत्रता सेनानी व शहीदों का भी तर्पण होगा। श्राद्ध पक्ष का समापन सर्वपितृ अमावस्या पर 6 अक्टूबर को होगा।

ज्योतिर्विद् देवेंद्र कुशवाह के मुताबिक श्राद्ध पक्ष में जिस दिन अपरान्ह में जो तिथि व्याप्त हो उसी दिन उस तिथि से संबंधित जातक का श्राद्ध किया जाता है। यानि दोपहर में तिथि के पूर्ण होने पर संबंधित तिथि वाले जातक का श्राद्ध करना उचित माना गया है। इसबार षष्ठी तिथि दो दिन 26 व 27 तारीख को दोपहर में है। शास्त्रों के अनुसार जिस दिन अपरान्ह व्यापिनी तिथि 60 घड़ी से अधिक हो उसी दिन उस तिथि का श्राद्ध करना चाहिए। इसके चलते 27 सितंबर को षष्ठी का श्राद्ध करना उचित होगा। हांलाकि मतमतांतर के साथ कुछ पंचांगों में 26 को षष्ठी तिथि का श्राद्ध बताया है।

हंसदास मठ पर निशुल्क तर्पण महोत्सव

श्रद्धा सुमन सेवा समिति द्वारा निशुल्क तर्पण महोत्सव 20 सितंबर से हंसदास मठ बड़ा गणपति पर होगा। संस्थापक अध्यक्ष मोहनलाल सोनी व संयोजक हरि अग्रवाल ने बताया कि प्रतिदिन सुबह 7.30 से 9.30 बजे तक पं. पवन तिवारी के मार्गदर्शन में तर्पण अनुष्ठान होगा। इसमें पूर्वजों, स्वतंत्रता सेनानी, शहीद जवान, इंदौर रियासत के होलकर शासकों की मोक्ष की कामना से तर्पण अनुष्ठान होगा।

किस दिन होगा किस तिथि का श्राद्ध

- 20 सितंबर को पूर्णिमा तिथि का श्राद्ध।

- 21 सितंबर को एकम तिथि का श्राद्ध।

- 22 सितंबर को द्वितीया तिथि का श्राद्ध।

- 23 सितंबर को तृतीया तिथि का श्राद्ध।

- 24 सितंबर को चतुर्थी का श्राद्ध ।

- 25 सितंबर को पंचमी तिथि का श्राद्ध।

- 26 सितंबर को किसी भी तिथि के जातक का श्राद्ध नहीं होगा।

- 27 सितंबर को षष्ठी तिथि का श्राद्ध।

- 28 सितंबर को सप्तमी तिथि का श्राद्ध।

- 29 सितंबर को अष्टमी तिथि का श्राद्ध।

- 30 सितंबर को नवमी तिथि का श्राद्ध।

- 1 अक्टूबर को दशमी तिथि का श्राद्ध।

- 2 अक्टूबर को एकादशी तिथि का श्राद्ध।

- 3 अक्टूबर को द्वादशी तिथि का श्राद्ध।

- 4 अक्टूबर को त्रयोदशी तिथि का श्राद्ध।

- 5 अक्टूबर को चतुर्दशी तिथि का श्राद्ध।

- 6 अक्टूबर को अमावस्या तिथि का श्राद्ध।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local