इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Light House Project Indore। इंदौर में क्रियान्वित किए जा रहे प्रधानमंत्री आवास योजना के लाइट हाउस प्रोजेक्ट की समीक्षा 25 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। सुबह 11 बजे से होने वाली इस वर्चुअल समीक्षा बैठक में प्रधानमंत्री मोदी को इंदौर समेत छह शहरों की साइट दिखाई जाएगी और मौजूदा स्थिति बताई जाएगी। बैठक के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। इंदौर के कनाड़िया रोड पर लाइट हाउस प्रोजेक्ट के अंतर्गत प्री फैब्रिकेटेड सैंडविच पैनल सिस्टम (पीएफएसपीएस) से 1024 फ्लैट बनाए जा रहे हैं। इस तकनीक में फ्लैट निर्माण में लगने वाले बीम, कालम और स्लैब आदि पहले ही फैक्टरी में तैयार कर साइट पर लाए जाते हैं और फिर उन्हें मौके पर फिट किया जाता है। लाकडाउन के कारण इंदौर का प्रोजेक्ट करीब तीन महीने पिछड़ गया है।

इंदौर के अलावा लखनऊ, अगरतला, राजकोट, चेन्नई और रांची में भी अलग-अलग तकनीकों से लाइट हाउस प्रोजेक्ट बनाए जा रहे हैं। नगर निगम अफसरों का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी की समीक्षा बैठक टू वे नहीं होगी, बल्कि वन वे होगी। उन्हें वीडियो दिखाकर हर शहर के प्रोजेक्ट की जानकारी केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के अफसर देंगे। इंदौर के निर्माणस्थल पर बैठक से पहले वीडियोग्राफी कराई गई है, साथ ही नेट कनेक्शन लेकर कंट्रोल रूम बनाया गया है। कंट्रोल रूम से स्थानीय अधिकारी बैठक में शामिल होंगे। बैठक से पहले दो-तीन दिन से ट्रायल किया जा रहा है। पीएम की बैठक से पहले पिछले दिनों केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के सचिव दुर्गाशंकर मिश्र ने भी लाइट हाउस प्रोजेक्ट की समीक्षा कर स्थानीय अफसरों से वर्तमान स्थिति की जानकारी ली थी।

अब तक 10 प्रतिशत काम ही हुआ

निगम के अधीक्षण यंत्री और प्रोजेक्ट के प्रभारी महेश शर्मा ने बताया कि इंदौर का लाइट हाउस प्रोजेक्ट करीब 128 करोड़ रुपये का है। 4.50 हेक्टेेयर जमीन पर आठ ब्लाक में फ्लैट बनाए जा रहे हैं। एक जनवरी-21 को प्रधानमंत्री ने प्रोजेक्ट का भूमिपूजन किया था और फ्लैट एक साल में तैयार होने हैं, लेकिन कोरोना लाकडाउन के कारण प्रोजेक्ट करीब तीन महीने पिछड़ गया है। फैक्टरी बंद होनेे, आक्सीजन की कमी होने से फ्लैट के स्टील स्ट्रक्चर और फैब्रिकेटेड सेंडविड पेनल नहीं आ रही थीं। पिछली समीक्षा बैठक में ठेकेदार एजेंसी ने भरोसा दिया है कि देरी होने के बावजूद समय पर काम पूरा कर देगी। हालांकि, अब तक लगभग 10 प्रतिशत काम हो पाया है।

12.50 के फ्लैट जनता को छह लाख में देंगे

- लाइट हाउस प्रोजेक्ट के फ्लैट की लागत 12.50 लाख रुपये है। इसमें प्रति फ्लैट के लिए 5.50 लाख रुपये केंद्र और एक लाख रुपये राज्य सरकार देगी। बची छह लाख रुपये की रकम हितग्राही यानी फ्लैट लेने वालेे से वसूली जाएगी।

- ये फ्लैट कमजोर आय वर्ग (ईकोनामिक वीकर सेक्शन) श्रेणी के हैं। इनका क्षेत्रफल 312 वर्गफीट है और ये एक बीएचके के हैं। प्रोजेक्ट के अंतर्गत आठ ब्लाक के पूरे परिसर का विकास और सुंदरीकरण भी किया जाएगा। फ्लैटों का निर्माण नागपुर की कंपनी कर रही है।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags