इंदौर। निवेश का झांसा देकर करोड़ों की धोखाधड़ी के आरोपितों को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया है। गिरोह में कंपनी की वाइस प्रेसिडेंट, सेल्स हेड, एचआर हेड, ट्रेनिंग इंचार्ज भी शामिल हैं। एक एडवाइजरी कंपनी के संचालक को गिरफ्तार करने में पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी थी। जिन पीड़ितों को आरोपित को जाल में फंसाने भेजा, उन्हें ही आरोपित ने अगवा कर लिया। उपराष्ट्रपति के काफिले के कारण वे ट्रैफिक में फंस गए और पुलिस ने दबोच लिया।

एसआईटी इंचार्ज एएसपी शैलेंद्रसिंह चौहान (जोन-2) के मुताबिक वेज टू केपिटल व वेज टू स्टार के संचालक निशांत चतुर्वेदी को एक वर्ष से तलाश रहे थे। वह ऑफिस बदलकर पीड़ितों से समझौते कर लेता था। गुरुवार को सूचना मिली कि उसने कुछ लोगों को कोर्ट परिसर में मिलने बुलाया है। टीम ने पीड़ितों से कहा कि जैसे ही निशांत कोर्ट पहुंचे, कॉल कर देना। निशांत पुलिस से दो कदम आगे निकला और बाउंसर लेकर आया। उसने कोर्ट परिसर से पीड़ितों को जबर्दस्ती कार में बैठा लिया।

आरोपित की रेकी करने वाले पुलिसकर्मी पीछे भागे, लेकिन वह नेहरू पार्क की ओर घुस गया। संयोग से आगे उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के काफिले के लिए ट्रैफिक रुका हुआ था। आरोपित उसमें फंस गए और निशांत सहित अनुज दीपक व्यास निवासी प्रेमनगर,अक्षय उर्फ यश वर्मा निवासी चितावद, रवि गौड़ निवासी भंवरकुआं, आशीष यादव निवासी साउथ तुकोगंज को गिरफ्तार कर लिया।

अखबार का प्रधान संपादक बताकर धमकाता था

पूछताछ में निशांत ने महिला कर्मचारी अदिति महेश श्रीवास्तव निवासी आदर्श नगर देवास का नाम कबूला। शुक्रवार को पुलिस ने अदिति को भी गिरफ्तार कर लिया। एएसपी के मुताबिक आरोपित खुद को एक अखबार का प्रधान संपादक बताकर धमकाता था। उसने अखबार के नाम से बोर्ड भी लगा रखा था।

इसी तरह मार्केट कैप्टन के संचालक प्रिंस सुनील खेमसरा निवासी महावीर मार्ग खाचरौद (उज्जैन), पंकज राजपूत निवासी खामा पड़वा हरदा, नीलेश त्रिपाठी निवासी भीतरी रामपुर सीधी, तानिया व्यास (ट्रेनिंग इंचार्ज) निवासी तारानी कॉलोनी देवास, मीनल डाले (वाइस प्रेसिडेंट) निवासी विजयनगर, मोनिका सिंह (सेल्स हेड) निवासी स्कीम-54 और प्रगति मिश्रा (एचआर हेड) निवासी ब्रजविहार कॉलोनी को गिरफ्तार किया है। एएसपी के मुताबिक कंपनी के संचालकों का रिमांड लिया शेष आरोपितों को जेल भेज दिया है।

फंड बाजार इंडिया पर वाराणसी में धोखाधड़ी का केस दर्ज

शुक्रवार को रुद्र विहार कॉलोनी वाराणसी निवासी अवधेश कुमार एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र से मिले और फंड बाजार इंडिया कंपनी के प्रोप्राइटर रवि शर्मा और ऑफिसर शुभम सोनी की गिरफ्तारी की मांग की। उन्होंने कहा कि कंपनी का ऑफिस पीयूएस -54 में है। आरोपितों ने निवेश का झांसा देकर करीब 11 लाख की धोखाधड़ी की है। उनके खिलाफ वाराणसी के मडूवाडीह में केस दर्ज है।

मप्र में ढाई सौ से अधिक अनुपयोगी कानून खत्म करने की तैयारी

महाकाल मंदिर विवाद व विकास के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने बुलाई बैठक

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local