इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि । देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में बेतरतीब ट्रैफिक सबसे बड़ी समस्या है। पुलिस इसे खत्म नहीं कर पा रही है। डीआईजी मनीष कपूरिया ने भी इंदौर में पद ग्रहण करते ही सबसे पीला ट्रैफिक को प्राथमिकता दी थी, लेकिन इस समस्या का अब तक कोई समाधान नहीं निकला। उन्होंने शाम 5 से 8 बजे तक सभी टीआई व अधिकारियों की ड्यूटी भी चौराहों पर लगाने के आदेश दिए थे, लेकिन अब उसे भी बंद कर दिया है।

मुख्य बाजारों में बेतरतीब खड़े वाहनों और फुटपाथ पर लग रही दुकानों की वजह से रोज हर जगह जाम लगा रहता है। ठेले वाले भी लोगों की मुसीबत का सबब बनते हैं। इससे न केवल ट्रैफिक जाम की स्थिति बनती है बल्कि पैदल चलने वाले लोग भी परेशान हैं।

वैसे कहने को तो इंदौर देश का सबसे स्वच्छ शहर है। यहां की सफाई व्यवस्था देखकर लोग हैरान हैं लेकिन यहां की बेतरतीब ट्रैफिक व्यवस्था लोगों के लिए मुसीबत खड़ी करती है। शहर के प्रमुख बाजारों में दुकानदार अपनी दुकानों के सामने बाइक और स्कूटर खड़े कर देते हैं, जिससे न केवल वाहनों को निकलने में दिक्कत होती है बल्कि पैदल चलने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

ठीक से पैदल भी नहीं चल सकते

रानीपुरा और राजवाडे़ में दुकानदार अपनी दुकान के सामने ही दो पहिया वाहन खड़े रखते हैं। इससे रास्ता छोटा हो गया है और फुटपाथ पर दुकान लगाने वालों ने सड़क पर अतिक्रमण कर रखा है। रही सही कसर सामान बेचने वाले ठेलों ने पूरी कर दी है। इनकी वजह से अक्सर जाम की स्थिति बनी रहती है। इससे वाहन चालकों से लेकर राहगीर तक सब परेशान होते रहते हैं।

वे प्रशासन से मांग कर रहे हैं कि सख्ती से पार्किंग व्यवस्था का पालन कराया जाए। दुकानदार अपनी गाड़ियां निर्धारित पार्किंग की जगह पर रखकर आएं, वहीं फुटपाथ पर दुकानें लगाने वालों और ठेले वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए, जिससे वे बाजारों में अतिक्रमण न कर सकें।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local