इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। श्राद्ध पक्ष के 16 दिन बाद नवरात्र के दौरान मकान, दुकान, फ्लैट, भूखंड जैसी अचल संपत्ति के अधिक पंजीयन की संभावना है। इसे देखते हुए पंजीयन एवं मुद्रांक विभाग के सभी उप पंजीयक कार्यालयों में 26 सितंबर से 4 अक्टूबर तक संपत्ति की रजिस्ट्री करने का समय बढ़ा दिया गया है। पहले सुबह 10 से शाम छह बजे तक पंजीयन कार्यालय खुले रहते थे, लेकिन अब साढ़े छह बजे तक खुले रहेंगे। इस अवधि में केवल एक और दो अक्टूबर को सार्वजनिक अवकाश रहेंगे। अन्य दिनों में शाम साढ़े छह बजे तक भी संपत्तियों का पंजीयन होता रहेगा।

अचल संपत्ति के अधिक पंजीयन को देखते हुए पंजीयन कार्यालयों में यदि अधिक स्लाट की आवश्यकता हुई तो विभाग द्वारा इनकी संख्या भी बढ़ाई जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग संपत्ति की खरीदी-बिक्री के दस्तावेजों का पंजीयन करवा सकें। पंजीयन विभाग के उप महानिरीक्षक बालकृष्ण मोरे ने बताया कि यह परंपरा रही है कि श्राद्ध पक्ष में संपत्तियों के नए सौदे कम ही होते हैं, और नवरात्र लगते ही अचल संपत्तियों की खरीदी-बिक्री बढ़ जाती है। उम्मीद है कि इस बार भी ऐसा ही होगा, इसलिए विभाग ने 4 अक्टूबर तक पंजीयन का समय बढ़ा दिया है।

सितंबर में 150 करोड़ की रजिस्ट्रियां होने का अनुमान

गत वर्ष सितंबर में 12 हजार रजिस्ट्रियां हुई थीं और शासन को 135 करोड़ रुपये स्टाम्प ड्यूटी के रूप में मिले थे। चालू सितंबर महीने में इंदौर में अब तक 10 हजार दस्तावेजों का पंजीयन हो चुका है। इन संपत्तियों के पंजीयन से राज्य शासन को 115 करोड़ रुपये का राजस्व मिल चुका है। सितंबर के बचे हुए दिनों में यह आंकड़ा 150 करोड़ रुपये तक जाने का अनुमान है। श्राद्ध पक्ष में भी लोग संपत्ति की खरीदी-बिक्री और पंजीयन करवाते रहे। श्राद्ध पक्ष में ही इंदौर में करीब 55 करोड़ रुपये की लगभग पांच हजार रजिस्ट्री हुईं।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close