Indore News: देवेंद्र मीणा, इंदौर। शहर में पुलिस ने 1 जून से पाइंट आफ सेल (पीओएस) मशीन के जरिये जुर्माने के भुगतान की व्यवस्था लागू कर दी है। नकद नहीं होने की स्थिति में क्रेडिट और डेबिट कार्ड से वाहन चालक भुगतान कर रहे हैं। अब मशीन में क्यूआर कोड की व्यवस्था भी की जा रही है, ताकि वाहन चालक मोबाइल फोन से स्कैन कर चालान राशि भर सके।

दरअसल, 1 जून को पुलिस आयुक्त हरिनारायणाचारी मिश्र ने 90 पीओएस मशीनों का वितरण किया था। इनमें से लगभग 58 मशीन यातायात पुलिस को दी गई थी। शेष थाने में भेजी गई थी। पीओएस मशीन के माध्यम से चालानकर्ता अधिकारी मौके पर वाहन चालक का फोटो खींचता है और गाड़ी का रजिस्टर्ड नंबर या चेसिस नंबर पीओएस मशीन में फीड करता है। वाहन चालक द्वारा यातायात नियम का उल्लंघन करने की जानकारी चुनते ही डिस्प्ले पर जुर्माने की राशि दिखने लगती है। फिर भुगतान विकल्प में से एक को चुनकर जुर्माना भरा जाता है।

यदि वाहन चालक के पास नकद या डिजिटल भुगतान की सुविधा नहीं है तो पीओएस मशीन में उसका बैंक में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर फीड कर मैसेज द्वारा लिंक शेयर की जाती है। वाहन चालक लिंक के माध्यम से सात दिन में जुर्माने का भुगतान कर सकता है। भुगतान नहीं करने की स्थिति में चालान की राशि न्यायालय में जमा करनी होती है। हालांकि पुलिस को प्रक्रिया के दौरान इंटरनेट स्पीड जैसी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। स्पीड नहीं मिलने से कई बार भुगतान प्रक्रिया अटक जाती है। ऐसे में वाहन चालकों को इंतजार करना पड़ता है। विवाद की स्थिति भी बनती है।

2300 से ज्यादा चालकों से वसूला जुर्माना

यातायात विभाग से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक 20 जून तक 2300 से अधिक वाहन चालकों ने पीओएस मशीन के जरिये चालान राशि भरी है। अब तक 16 जून को सर्वाधिक 332 चालकों ने चालान राशि मशीन के जरिये भरी।

जल्द सुविधा शुरू होगी

पीओएस मशीन में फिलहाल क्यूआर कोड की व्यवस्था नहीं है। इस दिशा में काम हो रहा है। जल्द ही यह सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी।

- महेशचंद जैन, डीसीपी, यातायात प्रबंधन

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close