गजेंद्र विश्वकर्मा, इंदौर। प्रदेश के सबसे बड़े शासकीय होलकर विज्ञान महामविद्यालय में इन दिनों विद्यार्थियों के लिए जारी किया गया एक सूचना पत्र संस्थान के करीब छह हजार विद्यार्थियों के बीच चर्चा का विषय बन गया है। इसमें संस्थान के प्राचार्य द्वारा एक सूचना पत्र जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि विद्यार्थी संस्थान के खिलाफ भ्रामक जानकारी इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट कर रहे हैं। जो विद्यार्थी ऐसा कर रहे हैं वे अपने अकाउंट बंद कर दे नहीं तो विद्यार्थियों को निष्कासित किया जाएगा और सायबर अपराध में मामला भी दर्ज कराया जाएगा।

इस पत्र के बारे में जब नईदुनिया ने संस्थान के प्राचार्य और उच्च शिक्षा विभाग के अतिरिक्त संचालक डा. सुरेश टी सिलावट से बात कि तो उन्होंने कहा कि कुछ समय से सूचना मिल रही है कि कुछ विद्यार्थी इंटरनेट मीडिया पर महाविद्यालय, मेरे और कुछ प्रोफेसर्स के नाम से भ्रामक जानकारी फैला रहे हैं। कई जगहों पर गलत शब्दों का उपयोग किया जा रहा है। हालांकि प्राचार्य इस संबंध में किसी तरह का सबूत नहीं दिखा पाए। उन्हाेंने कहा कि भ्रामक जानकारी फैलाने वालों की जांच के लिए सायबर पुलिस में शिकायत दर्ज की गई है।

इस बारे में छात्र संगठन कालेज प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन करने की रणनीति बना रहे हैं। विद्यार्थियों का कहना है कि इंटरनेट मीडिया अकाउंट पर कालेज निगरानी रखने की बात कह रहा है यह सही नहीं है। जिन भ्रामक पोस्ट की बात प्राचार्य कर रहे हैं उनके बारे में संस्थान को जानकारी देना चाहिए कि उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर क्या लिखा है। इस मामले में सभी विद्यार्थियों पर इंटरनेट मीडिया का उपयोग बंद करने का दबाव नहीं बनाया जा सकता।

प्राचार्य के सूचना पत्र में यह कहा गया

महाविद्यालय के समस्त विद्यार्थियों को निर्देशित किया जाता है कि प्राय: देखने में आ रहा है कि विद्यार्थियों द्वारा इंटरनेट मीडिया वेबसाइट जैसे इंस्टाग्राम, फेसबुक और यूट्यूब पर भ्रामक जानकारी, सूचनाएं और वीडियो पोस्ट किए जा रहे हैं जो महाविद्यालयीन विद्यार्थी नियमों के विरुद् है। ऐसे समस्त पेज, आइडी, फेसबुक अकाउंट सभी तत्काल बंद करें। अत: ऐसे विद्यार्थी तत्काल अधोहस्ताक्षरकर्ता से मिले अन्यथा ऐसे विद्यार्थियों को निष्कासित करते हुए स्थानांतरण प्रमााण-पत्र (टीसी) दे दी जाएगी। महाविद्यालय प्रशासन द्वारा इस संबंध में सायबर क्राइम एक्ट के तहत एफआइआर दर्ज करवाई जा रही है। यदि विद्यार्थी संस्थान के खिलाफ कृत्य करते हुए पाए जाते हैं तो उनके विरुद्ध होने वाली कार्यवाही के लिए स्वयं जिम्मेदार होंगे।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local