इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि,Private College Indore News। कोरोना संक्रमण के बीच निजी कालेज अपने स्टाफ को ड्यूटी करने के लिए बुलवा रहे हैं। प्रबंधन ने सोमवार से पचास फीसद स्टाफ की उपस्थिति में शैक्षणिक गतिविधियां संचालन करने के निर्देश दिए हैं। अब कर्मचारी से लेकर शिक्षक तक प्रबंधन के आदेश को लेकर विरोध में आए गए हैं। प्रबंधन तनख्वाह काटने का दबाव स्टाफ पर बना रहा है। उधर अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा के मुताबिक आपदा समिति की गाइडलाइन के आधार पर शैक्षणिक संस्थान खोले जा सकेंगे।

संक्रमण की स्थिति को देखते हुए जिला प्रशासन ने आपदा प्रबंधन समिति की सिफारिश पर सोमवार 19 अप्रैल तक शहर में लाकडाउन लगाया है। मगर कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। बावजूद इसके शहर के कई निजी कालेजों ने अपने-अपने वाट्सएप ग्रुप पर शिक्षक और स्टाफ को सोमवार से शैक्षणिक कार्य शुरू करने के लिए बुलवाया है। प्रत्येक व्यक्ति को सप्ताह में दो दिन कालेज आना है लेकिन ज्यादा शिक्षकों ने घर से आनलाइन क्लासेस चलाने का सुझाव दिया है। मगर प्रबंधन इसे मानने को तैयार नहीं है। यहां तक शिक्षकों ने एक मई से कालेज में आना बताया है।

सूत्रों के मुताबिक कालेजों ने 40 फीसद वेतन काटने की बात कही है। इससे स्टाफ और भड़क गया है। मामले में कुछ शिक्षकों ने उच्च शिक्षा विभाग के मुख्यालय में भी गोपनीय तरीके से चिट्ठी भेजी है। अतिरिक्त संचालक डा. सुरेश सिलावट का कहना है कि सोमवार तक अभी कॉलेज बंद है। वैसे आपदा समिति व जिला प्रशासन की गाइडलाइन के आधार पर कालेज शुरू किए जा सकेंगे। बावजूद इसके कालेज स्टाफ को बुलवाता है तो उन पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: gajendra.nagar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags