मालवा-निमाड़, भोपाल। अंचल में रविवार रात आंधी के साथ बारिश का सिलसिला चला। उज्जैन और बड़वानी में दो लोगों की जान चली गई। केले की फसल को भी नुकसान पहुंचा है। झाबुआ में अब तक चार इंच से अधिक बारिश हो चुकी है। मंदसौर में आंधा इंच, सीतामऊ में दो इंच बारिश दर्ज की गई।

धार जिले में तीन से दिन से हो रही बारिश में ग्राम तीसगांव में सड़क निर्माण के तहत बनाई पुलिया ने स्टॉपडेम का काम किया। रहवासी इलाके में पानी पहुंच गया। 25 घर प्रभावित हुए। पांच घरों में ज्यादा नुकसान हुआ है। धार से पहुंची बचाव अभियान टीम ने घुटने-घुटने पानी हो जाने पर कुछ लोगों को नाव से निकाला।

चार मवेशियों की मौत हो गई, एक घर की दीवार गिर गई। ग्राम टकरावदा और आसपास क्षेत्र में भी पेड़ भी गिर गएं। नालछा और तिरला आदि क्षेत्र में करीब एक एक इंच वर्षा दर्ज की गई है।

नाले में पुजारी बहा

उज्जैन शहर और जिले में कई स्थानों पर सोमवार रात से मंगलवार तड़के तक बारिश हुई। उन्हेल में बारिश के दौरान संतुलन बिगड़ने से नाले में बहने से एक मंदिर के पुजारी संजय पाठक की मौत हो गई। शव एक किमी दूर मिला। सुबह 8 बजे पिछले 24 घंटे में उज्जैन में आधा इंच से अधिक (15 मिमी) बारिश दर्ज की गई।

मकान ढह गया

बड़वानी में आंधी के साथ बारिश से एक मकान का शेड ढह गया। इससे नीचे सो रहे कालूराम गोयल (50) की मौत हो गई। अंजड़ तहसील के ग्राम सेगाव, आवली में आंधी से कै ले की फसल को नुकसान पहुंचा है। सोमवार दोपहर भी हल्की बारिश हुई। जिला मुख्यालय पर एक इंच से अधिक (26.3 मिमी) बारिश दर्ज हुई।

झाबुआ में सोमवार रात झमाझम बारिश के बाद कई नदियों में पानी बह निकला। जिले में अब तक 104 मिमी (चार इंच) बारिश दर्ज हो चुकी है। खरगोन में 24 घंटे में 34.6 मिमी और शाजापुर में सात मिमी बारिश दर्ज की गई।

दक्षिण-पश्चिम मानसून मालवा क्षेत्र में खासा मेहरबान हो गया है। मंगलवार को झाबुआ, अलीराजपुर, इंदौर,खरगोन में मानसून ने आमद दर्ज करा दी। साथ ही बैतूल,होशंगाबाद,देवास और सीहार के कुछ हिस्सों में मानसून ने उपस्थिति दर्ज करा दी है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक गुजरात पर बने एक सिस्टम से इंदौर-उज्जैन संभाग में 2-3 दिन तक अच्छी बरसात होने की संभावना है। भोपाल में 28 जून को मानसून दस्तक दे सकता है।

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में समुद्री सतह पर पंजाब से नागालैंड तक एक द्रोणिका लाइन(ट्रफ) बनी हुई है। जो दक्षिणी हरियाणा,दक्षिणी उप्र,बिहार,पश्चिम बंगाल का गंगा नदी वाला क्षेत्र से होकर गुजर रही है।

इसके अतिरिक्त गुजरात,उत्तरी महाराष्ट्र और पश्चिम मप्र.पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस सिस्टम से मप्र में सक्रिय मानसून को ऊर्जा मिल रही है। इसके असर से 2-3 दिन इंदौर-उज्जैन संभाग में अच्छी बरसात होने की संभावना है। साथ ही मानसून के 28 जून को राजधानी में भी दस्तक देने की संभावना है। इसके पूर्व भोपाल में गरज-चमक के साथ हल्की बौछारें पड़ने के आसार हैं।