इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Rakshabandhan Indore News। भाई-बहन के स्नेह का पर्व रक्षाबंधन सावन माह की पूर्णिमा तिथि पर 22 अगस्त को मनाया जाएगा। इस बार पर्व पर अशुभ फल देने वाली भद्रा का साया नहीं पड़ेगा। दिनभर में 11 घंटे 16 मिनट में कई शुभ मुहूर्त में बहन-भाई की कलाई पर स्नेह की डोर बांधेगी। इस मौके पर मंगलकारी शोभन व धनिष्ठा नक्षत्र का संयोग बनेगा।

ज्योर्तिविद् विजय अड़ीचवाल ने बताया कि पूर्णिमा तिथि 21 अगस्त शनिवार को शाम 7.02 बजे से शुरू होकर अगले दिन 22 अगस्त रविवार को शाम 5.33 बजे तक रहेंगे। उदया तिथि के चलते एक मत से रक्षा बंधन पर्व इसबार 22 अगस्त को मनाया जाएगा। 22 को सुबह भद्रा सुबह 6.17 बजे तक रहेगी। इसके बाद भद्रा का दोष नहीं होने से सुबह से पूर्णिमा तिथि के समापन तक दिनभर राखी बांधी जाएगी। इस दिन शोभन योग और घनिष्ठा नक्षत्र दिवस पर्यंत रहेगा। हालांकि इस बार श्रावणी नक्षत्र एक दिन पहले 21 अगस्त को ही समाप्त हो जाएगा।

राखी बांधने का श्रेष्ठ समय सुबह 7.46 से दोपहर 12.30 और फिर दोपहर 2.06 से शाम 3.40 बजे तक रहेगा। ज्योर्तिविद् देवेंद्र कुशवाह के मुताबिक श्रावणी उपाकर्म भी इसी दिन सुबह 6:17 बजे के बाद ही होगा। इस दिन शुभ फल देने वाले योग में शामिल शोभन योग भी है। इस योग का स्वामी शुक्र है। इसके अलावा इस दिन शुभ नक्षत्रों में से एक धनिष्ठा नक्षत्र भी रहेगा।

चौघडिया अनुसार राखी बांधने के मुहूर्त

चंचल : सुबह 7.45 से 9.20 बजे तक।

लाभ : सुबह 9.21 से 10.55 बजे तक।

अमृत : सुबह 10.56 से दोपहर 12.30 बजे तक।

शुभ : दोपहर 2.05 से 3.40 बजे तक।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local