इंदौर। रंगपंचमी के मौके पर पूरा शहर रंगों से सराबोर हो गया। हर तरफ अबीर-गुलाल उड़ रहा है। इस मौके पर हर साल की तरह इस बार भी पारंपरिक गेर और फाग यात्राएं निकलीं। जिसमें बड़ी संख्या में लोग उमड़े हैं। इस पर्व में किसी तरह का खलल न पड़े। इसके लिए सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं। 8 ड्रोन कैमरों के अलावा 125 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

अलग-अलग इलाकों से गेर निकलने का सिलसिला शुरू हो चुका है। टोरी कॉर्नर की गेर राजवाड़ा पहुंच चुकी है। जहां तक नजर जा रही है, वहां लोगों की भीड़ ही नजर आ रही है। सब रंगपंचमी के रंग में रंगे नजर आ रहे हैं। मिसाइलों से टेसू के फूल से बने गुलाल की लोगों पर बारिश हो रही है। शहर के पश्चिम क्षेत्र से चार बड़ी गेर निकलेंगी। इसमें टोरी कॉर्नर, रसिया कॉर्नर, संगम कॉर्नर और मॉरल क्लब की गेर शामिल है। फिलहाल टोरी कॉर्नर की गेर राजवाड़ा पहुंच चुकी है। मिसाइल के जरिए लोगों पर टेसू के फूल से बने गुलाल की बारिश की जा रही है। सब अपने-परायों का भेद भुलाकर रंगपंचमी के रंग में रंगे नजर आ रहे हैं।

इस बार की रंगपंचमी इसलिए भी खास है। क्योंकि 72 साल पुरानी शहर की इस परंपरा को दुनिया में पहचान दिलाने के लिए लोग इकठ्ठा होंगे। इस बार जिला प्रशासन ने यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में इसे शामिल कराने के लिए पूरी तैयारी की है। इसके लिए गेर की डॉक्यूमेंट्री बनाई जाएगी। फिर एक प्रस्ताव बनाकर यूनेस्को में भेजा जाएगा। इसे लेकर भी लोगों में काफी उत्साह है।

Posted By: