Ranji Trophy Champions 2022: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दशकों की प्रतीक्षा के बाद आखिरकार रणजी ट्राफी जीतकर मध्य प्रदेश के 'शेर' सोमवार को अपनी जमीं पर लौट आए। इन्होंने मध्य प्रदेश की सात करोड़ जनता के मन में जो सपने व उम्मीदें जगाई थीं, उन्हें संघर्ष और पसीने से साकार किया। विजेता टीम सोमवार शाम जब रणजी ट्राफी लेकर एयरपोर्ट पर उतरी, तो सैकड़ों लोग स्वागत के लिए मौजूद थे। क्रिकेट से इतर अन्य खेलों के खिलाड़ी भी अगवानी को आतुर थे। इन खिलाड़ियों में इतना उत्साह था कि ये मैदान पर अभ्यास के बाद सीधे विमानतल पहुंच गए थे। सबके चेहरे पर गौरव का भाव था, मानो खुद ट्राफी जीते हों। क्रिकेट खिलाड़ी विमानतल से बाहर आए तो कतारबद्ध खड़े हाकी खिलाड़ियों ने हाकी उठाकर सम्मान दिया। कुछ लोग हाथों में फूल लिए खड़े थे तो कुछ खिलाड़ियों को दे रहे थे। विजेता टीम पर फूलों की वर्षा भी की गई।

मध्य प्रदेश क्रिकेट टीम अपने कोच चंद्रकांत पंडित के साथ खजराना गणेश मंदिर पहुंची और श्रीगणेश के दर्शनन किए। - प्रफ़ुल्ल चौरसिया 'आशु'

खजराना गणेश को प्रणाम

भारतीय संस्कारों के तहत पूरी टीम ने खजराना गणेश मंदिर पहुंचकर पूजन किया और आशीर्वाद लिया। यहां भी वही अनुशासन दिखा, जिसे पूरे सत्र में टीम ने अपनाया था। खिलाड़ी एक कतार में खड़े हुए। इसके बाद टीम होलकर स्टेडियम पहुंची तो आतिशबाजी की गई। स्टेडियम में कोच चंद्रकांत पंडित और कप्तान आदित्य श्रीवास्तव ने रणजी टीम की सफलता के किस्से साझा किए।

गौरव की तबीयत बिगड़ी

मध्य प्रदेश टीम के तेज गेंदबाज गौरव यादव की तबीयत बिगड़ने के कारण वे होलकर स्टेडियम में हुआ मुख्य कार्यक्रम छोड़कर लौट गए। उन्हें चक्कर आ रहे थे। वे कुछ देर ड्रेसिंग रूम के बाहर जमीन पर बैठे रहे। फिर कार में उन्हें भेजा गया।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close