इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Religious Indore News। जीवन में खुशहाल और संपन्न रहने के लिए आवश्यक है कि हम कुछ नियमों का पालन करें। बुजुर्गों ने जो नीयम बनाए हैं हमें उनका अनुसरण करना चाहिए लेकिन वर्तमान में कोई उसपर नहीं चल रहा। दीपावली के पूजन के दौरान सभी को ध्यान रखना चाहिए कि पूजा सपरिवार हो और लक्ष्मी के साथ नारायण की पूजा भी की जाए। देवता किसी भी दिशा में हों लेकिन दीपक पूर्व दिशा में लगाना चाहिए और एक-एक दीपक लगाते वक्त नमन करें।

यह बात संत डा. वसंत विजय महाराज ने हाइलिंक सिटी में जारी प्रवचनमाला के तहत मंगलवार को भक्तों को बताई। प्रवचन के दौरान उन्होंने कहा कि अशुद्धि दरिद्रता का कारण है। हमारा शरीर और मन भी एक मंदिर है और हमें उसकी स्वच्छता का भी ध्यान रखना चाहिए। बहुमुल्य समान को रखने वाली आलमारी को दीपावली पर सफाई के दौरान अपने स्थान से न हटाएं। पलंग की चादरों को पूर्णिमा व अमावस्या को बदलना ही चाहिए ।इससे जीवन मे सूर्य व चंद्रमा की सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है।दीपावली के दिन में मुख्य चौखट को गंगाजल से साफ कर अंगुली से हल्दी लगाना चाहिए। इससे लक्ष्मी का आगमन होता है।


करवा चौथ पर परंपरा के साथ गीत-संगीत

यादव अहिर सेना की महिलाओं ने करवा चौथ का पर्व हर्षोल्लास से मनाया। महिला अध्यक्ष दीपिका यादव ने बताया कि कार्यक्रम में महिलाएं पारंपरिक परिधानों में पहुंचीं और गीतों पर नृत्य प्रस्तुत किए। देवी आराधना करते हुए गरबा भी किया गया। विशेष अतिथि कांग्रेस के प्रदेश सचिव और यादव अहिर सेना प्रमुख राकेशसिंह यादव थे। कार्यक्रम में काजोल यादव, कविता यादव, दीपा, रीना, रेखा, दीपाली, सरिता, शिवांगी, निकिता आदि उपस्थित थीं।

वहीं शहर की एक निजी होटल में करवा चौथ मनाई गई। परंपराओं के साथ गीत-संगीत और खेलों का आयोजन भी हुआ। कार्यक्रम संयोजक डा. दिव्या गुप्ता ने बताया कि पारंपरिक लोकनृत्यों की प्रस्तुतियों में राजस्थान और पंजाब के रंग दिखे। करवा चौथ थीम पर तंबोला भी खेला गया।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local