इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News । मेडिकेप्स विश्वविद्यालय में इंटरनेशनल मल्टी डिस्प्लीनरी रिसर्च कांफ्रेंस- 2021 का समापन हुआ। विश्वविद्यालय के कुलपति डा. दिलीप कुमार ने कहा कि हम उन्नत तकनीकों के द्वारा ही करोना महामारी का सामना बेहतर तरीके से कर सके हैं और प्रौद्योगिकी ही इससे बाहर निकालने का रास्ता है। इस समय हम सभी दृढ़ता से मानते हैं कि सामूहिक स्तर पर शोधकार्य ही समाज को बेहतर परिणाम दे सकते है। इसमें अमेरिका, एशिया और यूरोप के 200 से अधिक शोधार्थियों, फैकल्टी मेंबर्स और इंडस्ट्री प्रोफेशनल्स ने भाग लिया।

कार्यक्रम के पहले दिन शिक्षा, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग के प्रमुख वक्ता ग्रीस के प्रो. रानियालाम्पू, इंडोनेशिया के डा. मुथमैनाह, यूएसए के प्रो. शिनेथ कुनानन, थाईलैंड के प्रो. चाईचिंगटैन, फिलीपिंस के प्रो. सिंडरडाय नेताबियोलो, अमेरिकन विश्वविद्यालय आफ सावरेन नेशंसथ से प्रो. जुवारी थे। सम्मेलन के समापन पर फिलीपिंस के डिपार्टमेंट आफ एजुकेशन के अंडर सेक्रेटरी फार करिकुलम डा. डिओस्डाडोएम सैनएंटोनियो, डिप्लोमेट विश्वविद्यालय के एसोसिएट डीन डा. सिंडरडायने, बेनीसूफ विश्वविद्यालय के डा. अहमद ए. एलांगर, नीदरलैंड्स के प्लाज्मा साइंस एंड टेक्नोलाजी इंस्टीट्यूट प्रो. मेहरानत वाकोलीकेशे, तुर्की के नामिककेमल विश्वविद्यालय के डा. कैगदास इनान, ओमान के शिक्षा मंत्रालय के प्रो. महमूद मोहसेन ने शोध विचार व्यक्त किए और कोरोना के बाद एशिया- यूरोप के बीच अनुसंधान सहयोग में वृद्धि करने का अनुरोध किया।

कार्यक्रम में प्रोफेसर इंचार्ज डा. एसडी उपाध्याय भी उपस्थित थे। कांफ्रेंस के इंडिया को आर्डिनेटर डा. रविंद्र पाठक ने बताया कि बियान्ड बुक्स पब्लिकेशन फिलीपींस, एस्ट्रोनामी एंड स्पेस कंपनी एनेक्स सलामिस- एथेंस ग्रीस, अल असिया रियामंदार विश्वविद्यालय, मुहम्मदिया सिडेनरेंगरापांग विश्वविद्यालय इंडोनेशिया, कोलोराडो ग्लोबल यूएसए, विट्टी गासिप एसोसिएशन और मेडिकेप्स विश्वविद्यालय ने संयुक्त रूप से तीन दिवसीय इंटरनेशनल कान्फ्रेंस का आयोजन किया।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local