Road Safety Indore: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सिर की किसी भी कभी भी चोट को हल्के में न लें। कई बार बुजुर्ग अपने साथ हुई किसी दुर्घटना की जानकारी अपने स्वजन को नहीं देते। अगर सिर पर चोट लगी है तो जानकारी तुरंत दें। अगर आपको लगता है कि बुजुर्ग अचानक से गुमसुम हो गए हैं या उन्हें बेहोशी, उल्टी होने लगी है तो हो सकता है उन्हें कुछ दिन पहले सिर पर गंभीर चोट लगी हो, लेकिन उन्होंने इसे मामूली समझकर लिया हो। दुर्घटना में जान गंवाने वालों में बड़ी संख्या उन लोगों की होती है जिन्हें सिर पर चोट लगती है। अगर आप दोपहिया वाहन पर हैं तो हेलमेट अनिवार्य रूप से पहनें। यह सिर्फ आपके लिए नहीं, बल्कि आपके परिवार के लिए भी जरूरी है।

यह बात एमजीएम मेडिकल कालेज के न्यूरो सर्जरी विभाग अध्यक्ष डा.राकेश गुप्ता ने कही। नईदुनिया से चर्चा में उन्होंने कहा कि कई बार सिर पर छोटी आई चोट को हम मामूली समझकर अनदेखा कर देते हैं, लेकिन यही चोट कुछ दिन बाद गंभीर हो जाती है। सिर पर आई कोई भी चोट मामूली नहीं होती। इसकी विस्तृत जांच जरूरी है। हमारे देश में हर वर्ष एक लाख 55 हजार लोग दुर्घटनाओं में जान गंवाते हैं। इनमें बड़ी संख्या उन लोगों की है जिन्हें हादसे मे सिर में चोट आती है।

बच्चों का भी रखें ध्यान - बच्चों के गैलरी से नीचे गिरने के हादसे भी बढ़ गए हैं। छोटे बच्चों के गैलरी से गिरने की घटनाएं रोकने के लिए जरूरी है कि गैलरी में ऐसी व्यवस्था की जाए कि कही भी छह इंच से ज्यादा का अंतर न रहे। इसके अलावा इस बात का भी ध्यान रखें कि गैलरी की ऊंचाई तीन फीट से कम न हो। गैलरी के आसपास स्टूल या पटिया न रखें। कई बार छोटे बच्चे स्टूल पर चढ़कर गैलरी से नीचे देखने लगते हैं। ऐसे में हादसों की आशंका बढ़ जाती है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close