Indore Crime News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर में लुटेरी दुल्हनों की गैंग सक्रिय है। यह लोग पैसे ऐंठकर लोगों के साथ धोखाधड़ी करते हैं और फिर फरार हो जाते हैं। भंवरकुआं पुलिस ने सोमवार को ऐसी ही एक गैंग को पकड़ा है, जो शादी के दो दिन बाद ही एक लाख 70 हजार रुपये लेकर खजराना गणेश मंदिर से फरार हो गई थी। इस मामले में पुलिस ने आरोपित रवि और उसकी मां सहित तीन अन्य आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

फरियादी धनाराम पटेल (38) निवासी जालोर राजस्थान ने थाने पर आवेदन दिया था कि जिसमें बताया था कि मैं बैंगलोर में गैस एजेंसी पर नौकरी करता हूं। मेरी शादी के संबंध में मैंने अपनी रिश्तेदारी में बताया था। इसी बात को लेकर मेरे पास महेन्द्र यादव का फोन आया कि तुमको शादी करनी हैं। मेरी रिश्तेदारी में एक अच्छी लकड़ी है। मैं बैंगलोर से 2 दिसंबर को इन्दौर आ गया। महेन्द्र ने साथी रवि के साथ मिलकर दो-तीन लड़कियों के फोटे दिखाए। जिसमें से एक लकड़ी पसंद आई, जिसका नाम मुझे शिवानी और उसके पिता का अभिषेक और मां का नाम प्रमिला यादव बताया। 2 दिसंबर को ही रात 8.30 बजे हार पहनाकर मेरी शादी शिवानी नाम की लड़की से करवा दी।लकड़ी के भाई राजू ने बताया कि हमारे ऊपर कर्ज है, इसलिए मैंने तुरंत 70 हजार रुपये नगद दिए।

दूसरे दिन मैंने एक लाख रुपये नगदी और प्रमिला और राजू को दिए। ये लोग मुझे कोर्ट में शादी के लिए लेकर गए, जहां 100 रुपये के स्टॉप पेपर पर लिखापढ़ी कर शादी का लेख करवाया। दूसरे दिन मैं और शिवानी खजराना गणेश मंदिर गए थे। वहां से मुझे बिना बताए शिवानी मंदिर से कहीं चली गई। मैंने आसपास तलाश किया, लेकिन नहीं मिली। बाद में मुझे पता चला कि प्रमिला रुपये लेकर झूठी शादी करवाती हैं। शिवानी उसकी लड़की नहीं है बल्कि वह राजू की पत्नी है। उसका नाम मंजू लोधी है। बाद मैं मुझे पता चला कि करीब पांच माह पहले प्रमिला और उसकी गैंग ने मिलकर विनोद कुमार जैन निवासी राजस्थान के साथ भी शादी कर के 2.5 लाख रुपये ऐंठ लिए थे।पुलिस का कहना है कि आरोपितों ने पूछताछ की जा रही है, जिसमें अन्य शादियों के खुलासे भी हो सकते हैं।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close