इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। School Fees: फीस के मुद्दे पर शनिवार को स्कीम नंबर 54 स्थित गुजराती स्कूल में 30 से 40 पालक स्कूल प्रबंधन से मिलने पहुंचे। पालकों ने पूछा कि ट्यूशन फीस और स्कूल के खर्च कितने हैं हमें बताएं। पालकों के मुताबिक प्राचार्य ने कहा कि वो फीस की पहली किस्त में से 2150 रुपये और जो पालक पहली किस्त दे चुके हैं उनकी आखिरी किस्त में से 3 हजार रुपये कम करेंगे। पालकों का कहना है कि स्कूल प्रबंधन द्वारा इस बार जो फीस की राशि बढ़ाई गई थी वही कम की गई है। ऐसे में छात्रों से तो पूरी फीस ही वसूली जा रही है। पालकों के मुताबिक फीस न देने वाले छात्रों को ऑनलाइन क्लास से बाहर कर दिया गया है। प्रबंधन कह रहा कि जब पालक फीस जमा करेंगे उसके बाद ही बच्चों को ऑनलाइन क्लॉस में जोड़ेंगें। जबकि शासन के नियमों के अनुसार स्कूल बच्चों को फीस न देने पर ऑनलाइन क्लास से बाहर नहीं कर सकता।

स्कूल प्रबंधन शिक्षकों व ड्राइवरों का वेतन व अन्य खर्चों की बात कह फीस कम नहीं कर रहा है जबकि स्कूल के कई ड्रायवर व शिक्षकों को वेतन नहीं दिया जा रहा है। स्कूल की प्राचार्य श्यामली चटर्जी के मुताबिक शनिवार को कुछ पालक फीस के मुददे पर मुझसे मिलने आए थे। हम छात्रों की फीस में दो हजार रुपये विकास शुल्क, 100 रुपये मेडिकल व 50 रुपये ग्रुप फोटो के इस बार नहीं ले रहे हैं। इसके अलावा छात्रों से बस फीस भी नहीं ली जा रही है। प्रायमरी के जिन बच्चों के पालकों ने फीस की प्रथम किस्त भी जमा नहीं की है उनको स्टडी मटेरियल के वीडियो भेजना बंद किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020