इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। स्मार्ट सिटी के स्मार्ट सिटी सीड इंक्यूबेशन केंद्र द्वारा लगातार शिक्षण संस्थानों के साथ समझौता कर अपने साथ जोड़ने के प्रयास जारी है। प्रदेश के सबसे बड़े श्री गोविंदराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान (एसजीएसआइटीएस) भी संस्थान से जुड़ गया है। हाल ही में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (देअवीवी) और अन्य शिक्षण संस्थानों के साथ भी स्मार्ट सिटी सीड इंक्यूबेशन केंद्र के साथ समझौता हो चुका है।

गुरुवार को एसजीएसआइटीएस के साथ भी समझौता होने के बाद युवाओं को अपने बिजनेस आइडिया को ऊंचाईयां देने में मदद मिलेगी। स्मार्ट सिटी सीड इंक्यूबेशन केंद्र में वर्किंग स्पेस, ब्रेकआउट स्पेस, मीटिंग रुम, कांफ्रेंस रुम, एक्टिविटी रुम,फर्नीशिंग, आकर्षक लाइटिंग और इंटरनेट की आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई गई है। इंक्यूबेशन केंद्र बनाने में करीब तीन करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। यहां स्टार्टअप को गति देने के लिए विशेषज्ञों की टीम और विभिन्न विषयों के विशेषज्ञों से स्टार्टअप करने वाले युवाओं से मिलाया जाता है।

फंडिंग और अन्य तरह की परेशानियों को भी दूर करने की कोशिश की जाती है। एसजीएसआइटीएस के लिए यह समझौता इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि कालेज में पहले से इंक्यूबेशन केंद्र है और यहां कई स्टार्टअप अपना काम कर रहे हैं। दोनों संस्थानों के बीच समझौता होने के बाद काम करने का दायरा और बढ़ जाएगा। कालेज के विद्यार्थी इंक्यूबेशन केंद्र का उपयोग कर पाएंगे।

कालेज के निदेशक डा. आरके सक्सेना का कहना है कि हमारे पास दुनिया की सभी आधुनिक लैब और आइआइटी से पासआउट प्रोफेसर की टीम है। हमारे इंक्यूबेशन केंद्र का मकसद भी युवाओं को खुद के व्यापार करने के लिए प्रेरित करना है और उनके आइडिया को बाजार तक पहुंचाना है। स्मार्ट सिटी सीड इंक्यूबेशन केंद्र के साथ जुड़ने से हमारे विद्यार्थियों को ज्यादा एक्सपोजर मिलेगा और इंक्यूबेशन केंद्र के अन्य स्टार्टअप के लिए भी हम मदद कर सकेंगे।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local