इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर में पुलिस कंट्रोल रूम में महिला एएसआइ को गोली मारने के बाद आत्महत्या करने वाले भिखनखेड़ी तराना (उज्जैन) निवासी हाकमसिंह पंवार सिपाही से टीआइ बने थे। वे इंदौर में भी सराफा, खुड़ैल और गौतमपुरा पुलिस थाना प्रभारी रह चुके हैं। हाकमसिंह की पहली शादी तराना में लीलावती से हुई थी। इसके बाद उन्होंने सीहोर की सरस्वती से दूसरा ब्याह कर लिया। गौतमपुरा पोस्टिंग हुई तो रेशमा शेख को पत्नी के रूप में रख लिया। 2018 में एएसआइ से दोस्ती हो गई और महेश्वर (खरगोन) तबादला हुआ तो उससे प्रेम करने लगे। बताते हैं इसके बाद भी भोपाल में भी उन्होंने एक हवलदार को पत्नी के रूप में रख लिया था।

फिलहाल हाकमसिंह खटलापुरा (भोपाल) में किराए के फ्लैट में रहते थे। उनकी इसी वर्ष 6 जून को श्यामला हिल्स थाना में पोस्टिंग हुई थी। 21 जून को तीन दिन की छुट्टी लेकर इंदौर आए थे। घटना के बाद रेशमा शेख उर्फ जग्गू एमवाय अस्पताल पहुंची और शव देखने की जिद करने लगी। रेशमा ने कहा वह उनकी तीसरी पत्नी है। गौतमपुरा पोस्टिंग के दौरान उन्होंने उज्जैन के एक मंदिर में शादी की थी। कहते थे पुलिस सेवा में हूं इसलिए सार्वजनिक रूप से शादी नहीं कर सकता। रेशमा को हाकमसिंह ने बायपास स्थित एक टाउनशिप में मकान भी दिलवा दिया था। उसने नईदुनिया को बताया कि हाकमसिंह बहुत परेशान थे। उन्होंने पूरी घटना तो नहीं बताई, लेकिन बोलते थे कि मैं मर जाऊंगा। मेरे बाद तुम भी गोली मारकर मर जाना। तीन दिन पहले ही उन्हें पांच लाख रुपये ट्रांसफर किए थे। उनका सबकुछ लुट चुका था। प्लाट और जेवर भी बेच दिए थे।

13 साल पूर्व महिला एएसआइ से तय हुआ था रिश्ता - रेशमा ने बताया कि दो दिन पूर्व घर आए तो बगैर बात किए सो गए। मैंने कहा क्या हुआ-तुम्हारा फोन बताओ। मुझसे बोले फोन कार में भूल गया। उन्होंने इतना ही बताया कि ग्लोबल कपड़े वाले से हिसाब करना है। मुझे उन पर शक होने लगा था। क्योंकि इंदौर आने पर वह कंट्रोल रूम जरूर जाते थे। हाकमसिंह की मौत की खबर मिलने के बाद भी रात 8 बजे तक शव लेने उनके स्वजन नहीं पहुंचे। उज्जैन से रिश्तेदार आए, लेकिन वह भी ज्यादा जानकारी नहीं दे सके। उधर, एएसआइ के साथ रहने वाली महिला पुलिसकर्मियों ने अफसरों को बताया कि करीब 13 साल पूर्व एएसआइ और हाकमसिंह का रिश्ता तय हुआ था, लेकिन बाद में दोनों में बातचीत बंद हो गई। टीआइ ने तीन शादियां कर लीं, लेकिन बाद में वह एएसआइ को ही चाहने लगे।

साथ रहने वाली एएसआइ के भाई पर लगाया था दुष्कर्म का आरोप - टीआइ ने जिस महिला एएसआइ को गोली मारी उस पर ब्लैकमेलिंग के आरोप लग रहे हैं। घटना के बाद अफसर भी उसका रिकार्ड खंगाल रहे हैं। पता चला है कि एएसआइ ने वर्ष 2019 में यश शारदे और उसकी बहन गुंजन पर दुष्कर्म व दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया था। गुंजन उपायुक्त (मुख्यालय) कार्यालय में पदस्थ एएसआइ(एम) है। दोनों एक ही रूम में साथ रहती थीं। एएसआइ ने धामनोद में भी एक पुलिसकर्मी पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close