इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर पुलिस कंट्रोल रूम में टीआइ हाकमसिंह पंवार द्वारा की गई आत्महत्या के केस की गुत्थी उलझती जा रही है। टीआइ ने जिस महिला एएसआइ पर गोली चलाई थी, वह उन्हें पितातुल्य बता रही है। जिन पुलिसवालों के सामने गोली चली वह बयानों से बच रहे हैं। जांच अफसर वीडियो फुटेज के आधार पर गवाही के लिए पुलिसवालों को नोटिस जारी कर रहे हैं।

श्यामला हिल्स भोपाल थाने के टीआइ हाकमसिंह ने शुक्रवार दोपहर इंदौर के पुलिस कंट्रोल रूम (रानी सराय) परिसर में उपायुक्त कार्यालय में पदस्थ महिला एएसआइ पर गोली चलाने के बाद खुद को उड़ा लिया था। एएसआइ तो बच गई लेकिन टीआइ की मौके पर ही मौत हो गई। घायल एएसआइ ने कार का विवाद बताया जबकि दोनों में प्रेम प्रसंग चल रहा था। एएसआई लाखों रुपये भी ले चुकी थी। कुछ पुलिसवालों को भी पता था कि दोनों के संबंध हैं। एएसआइ अन्य लोगों से भी संपर्क में है। लेकिन घटना के बाद कोई उसके बारे में बता ही नहीं रहा है। यहां तक कि घटना के वक्त मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने भी घटना देखने से इन्कार कर दिया। सबसे पहले पहुंचे पुलिस वालों से बात की तो कहा कि वे घटना के बाद आए थे। संयोगितागंज एसीपी अरविंद सिंह तोमर के मुताबिक कुछ वीडियो फुटेज मिले हैं जिसमें पुलिसकर्मी एएसआइ के आसपास दिख रहे हैं। उसमें क्राइम ब्रांच और पुलिस कंट्रोल रूम के पुलिसकर्मी हैं। बयानों के लिए सभी को नोटिस जारी किया जा रहा है।

भाई बोला- गोली चलने के बाद आया - हाकमसिंह और एएसआइ की आइसीएच में बैठक हुई थी जिसमें एएसआइ का भाई भी मौजूद था। यहां बहस होने के बाद तीनों बाहर आ गए। टीआइ एक पेड़ के नीचे आकर खड़े हुए और एएसआइ को गोली मार दी। पुलिस ने एएसआइ के भाई से पूछा तो कहा कि मैं दूर था। गोली चलने की आवाज सुनकर आया था।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close